आज से ठीक 19 साल पहले क्रिकेट में एक ऐसा मैच खेला गया था, जिसे कभी भुलाया नहीं जा सकेगा। 19 जून, 1999 को एजबेस्टन बर्मिंघम मैदान पर जो कुछ भी हुआ था, वह बिना किसी शक के क्रिकेट इतिहास के सबसे नाटकीय घटनाक्रमों में शुमार हो गया। रनों का पीछा कर रही टीम 2 गेंद शेष रहते आॅल आउट हो चुकी थी और मैच टाई हो गया। फिर चारों तरफ अफरा-तफरी का माहौल। इन सबके बीच क्रिकेट ने साबित किया था की क्यों उसे 'अनिश्चितताओं से भरा खेल' कहा जाता है।  


क्रिकेट इतिहास की सर्वश्रेष्ठ कहानी बन गया यह मैच

साल 1999 में 17 जून को ही इंग्लैंड में हुए वनडे विश्व कप का सेमीफाइनल मैच खेला गया था। उस समय की दो सबसे ताकतवर टीमों दक्षिण अफ्रीका और आॅस्ट्रेलिया के बीच हुए इस मुकाबले को लांस क्लूजनर की पारी और उनके साथी एलन डोनाल्ड की गलती के लिए हमेशा याद किया जाएगा। इस मुकाबले में दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजों ने विस्फोटकों बल्लेबाजों से सजी आॅस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम को निर्धारित 50 ओवर्स के खेल में 4 गेंद शेष रहते सिर्फ 213/9 के स्कोर पर रोक दिया था।


रोमांच की हदें पार कर चुका था मैच 

दक्षिण अफ्रीका के हरफनमौला क्रिकेटर लांस क्लूजनर उस पूरे टूर्नामेंट में शानदार फॉर्म में थे और बेहतरीन आॅलराउंड खेल का प्रदर्शन किया था। क्लूजनर ने टूर्नामेंट में 140 की औसत से रन बनाए थे और 'मैन आॅफ द टूर्नामेंट' चुने गए थे। सेमीफाइनल मुकाबले में भी वह दक्षिण अफ्रीका की आखिरी उम्मीद बने थे। आॅस्ट्रेलिया के खिलाफ सेमीफाइनल मुकाबला रोमांच की हदें पार कर रहा था। दक्षिण अफ्रीका को आखिरी ओवर में जीत के लिए 9 रन बनाने थे। आॅस्ट्रेलिया के लिए डेमियन फ्लेमिंग आखिरी ओवर कर रहे थे। उनके ओवर की पहली दो गेंदों पर लांस क्लूजनर ने चौका जड़ दिया।


लांस क्लूजनर ने अटका दी थी आॅस्ट्रेलिया की सांसें

अब मैच टाई हो गया था और दक्षिण अफ्रीका को जीत के लिए सिर्फ एक रन की जरूरत थी। लांस क्लूजनर स्ट्राइक पर थे, फ्लेमिंग के ओवर की 4 गेंदें बची हुईं थी। दक्षिण अफ्रीका के ड्रेसिंग रूम और दर्शक दीर्घा में मौजूद अफ्रीकी क्रिकेट फैंस जश्न मनाने लगे थे। जाहिर सी बात है कि दक्षिण अफ्रीका में भी जश्न मन ही रहा होगा, उनकी टीम पहली बार विश्व कप के फाइनल में पहुंचने वाली थी। लेकिन, आखिरी ओवर की चौथी गेंद पर जो हुआ उसने दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट टीम को एक नया नाम दे दिया, 'चोकर्स' यानी अंतिम समय में हार मान लेने वाला।


एलन डोनाल्ड की गलती ने तोड़ दिया था दक्षिण अफ्रीका का सपना

ओवर की पहली दो गेंदों पर चौका खाने वाले डेमियन फ्लेमिंग के पास करने के लिए कुछ खास बचा नहीं था, सिवाय भगवान से ​चमत्कार की गुजारिश करने के। उनकी तीसरी गेंद पर लांस क्लूजनर ने मिड आॅन पर तेज शॉट खेला लेकिन गेंद सीधे डेरेन लिमन के हाथों में पहुंची और नॉन स्ट्राइकर एंड पर खड़े एलन डोनाल्ड रन आउट होते-होते रह गए थे। चौथी गेंद को लांस क्लूजनर स्ट्रेट खेलने के साथ ही रन लेने के लिए दौड़ पड़े। गेंद नॉन स्ट्राइकर एंड पर विकेट्स से लगकर मिड आॅफ पर गई, डोनाल्ड गेंद को देखते रह गए और क्लूजनर नॉन स्ट्राइक एंड पर थे। एलन डोनाल्ड जब तक दौड़ते काफी देर हो चुकी थी, मैच टाई हो गया था और बेहतर रन औसत के आधार पर आॅस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम फाइनल में अपना स्थान पक्का कर चुकी थी।