नई दिल्ली। भारतीय सेना ने एक अहम कदम उठाते हुए इस साल को दिव्यांग सैनिकों के नाम करने का फैसला किया है। सेना के मुताबिक, यह साल उन जवानों को समर्पित होगा, जिन्होंने देश के लिए अपने अंग गंवाए हैं।


ऐसे में अब सेना ने उन दिव्यांग जवानों के बारे में भी सोचा है और उन बहादुर सैनिकों के पुनर्वास और कल्याण के साथ-साथ उन्हें सम्मान देने के लिए यह साल उन्हें समर्पित करने का फैसला किया है।


बता दें की सेना द्वारा ऐसे सैनिकों की आर्थिक तौर पर मदद की जाएगी जिनके शारीरिक अंग युद्ध में खराब हुए हैं और जिसके चलते वे अपनी नौकरी सेना में पूरी नहीं कर पाए। यह एकमुश्त मदद होगी।


मालूम हो कि इसमें विकलांग सैनिकों के साथ-साथ युद्ध, काउंटर इमरजेंसी और काउंटर टेरेरिज्म ऑपरेशन में प्रभावित सभी सैनिकों को शामिल किया जाएगा।