चीन के सरकारी अखबार 'ग्लोबल टाइम्स' में पब्लिश रिपोर्ट के मुताबिक, "सुपर पावर अमेरिका में तेजी से बढ़ता राष्ट्रवाद दुनिया को एक खतरनाक संकेत दे रहा है. ये ग्लोबलाइजेशन के लिए बड़ी चुनौती है."

 

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के शासनकाल में अमेरिका में बढ़ता राष्ट्रवाद दुनिया के लिए खतरे की घंटी है. चीन के सरकारी अखबार 'ग्लोबल टाइम्स' में पब्लिश एक रिपोर्ट में ऐसी आशंका जाहिर की गई है. रिपोर्ट में कहा गया है कि डोनाल्ड ट्रंप 'अमेरिका फर्स्ट' के सिद्धांत पर चल रहे हैं. उनकी विदेश और आर्थिक नीति दोनों राष्ट्रवादी है, जिससे दुनिया को खतरा है.

'ग्लोबल टाइम्स' में पब्लिश रिपोर्ट के मुताबिक, "सुपर पावर अमेरिका में तेजी से बढ़ता राष्ट्रवाद दुनिया को एक खतरनाक संकेत दे रहा है. ये ग्लोबलाइजेशन के लिए बड़ी चुनौती है. अमेरिका में बढ़ता राष्ट्रवाद और संरक्षणवाद ग्लोबलाइजेशन की प्रक्रिया पर असर डाल रहा है. अपने कथित 'राष्ट्रवाद' की बात करते हुए ट्रंप चीन जैसे दूसरे देशों पर सवाल उठाते हैं. ऐसी परिस्थिति में दुनिया पर एक बड़ा खतरा पैदा हो गया है."

रिपोर्ट में लिखा है, "ट्रंप अपनी नीतियों का बचाव करते हैं. कथित राष्ट्रवाद के लिए ट्रंप सख्त इमीग्रेशन पॉलिसी लेकर आए हैं, जिसके तहत अमेरिका-मेक्सिको बॉर्डर पर माता-पिता को उनके बच्चों से अलग किया जा रहा है. ट्रंप इमीग्रेशन पॉलिसी को भी राष्ट्रवाद के चश्मे से देख रहे हैं. उनके मुताबिक, पिछली इमीग्रेशन पॉलिसी ने कम वेतन वाले नौकरियों में प्रतियोगिता बढ़ा दी थी. एक राष्ट्रभाषा के रूप में अंग्रेजी को भी खतरा था."