भारतीय रेलवे के कर्मचारियों की एक बड़ी लापरवाही सामने आई है. पुरी से बैतूल जा रही मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना स्पेशल ट्रेन रेलवे कर्मियों की गलती से मालखेड़ी स्टेशन की जगह आगासौद स्टेशन पर पहुंच गई.

जब ट्रेन के गलत ट्रैक पर जाने की खबर रेलवे कर्मियों को लगी तो उनके पसीने छूट गए. यात्रियों में अफरा-तफरी मच गई. गनीमत रही कि ट्रैक खाली था और कोई हादसा नहीं हुआ. ट्रेन सुरक्षित आगासौद स्टेशन पहुंच गई. हालांकि, बाद में ट्रेन को वापस लिया और निश्चित स्टेशन के लिए रवाना किया. रेलवे कर्मचारियों की इस गलती के कारण ट्रेन निर्धारित समय से करीब 4 घंटे देरी से चली.

दरअसल हुआ यूं कि मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना स्पेशल ट्रेन सागर की ओर से सुबह मालखेड़ी स्टेशन आई थी, जो सुबह 8 बजकर 40 मिनट पर यहां से रवाना की गई.

यह ट्रेन गलत ट्रैक पर चली गई. रेलवे अधिकारियों को इसका भान करीब आधे घंटे बाद हुआ. तब तक ट्रेन आगासौद स्टेशन तक पहुंच गई. इसे उसी स्टेशन पर रोक लिया गया.

यहां ट्रेन करीब सवा घंटे तक खड़ी रही. फिर यहां से सुबह 10 बजकर 45 मिनट पर वापस मालखेड़ी के लिए रवाना किया गया. जो ढाई घंटे बाद मालखेड़ी स्टेशन पहुंची. फिर यहां से ट्रेन के इंजन की दिशा बदलकर दोपहर 12 बजकर 5 मिनट पर बीना स्टेशन के लिए रवाना किया. बीना स्टेशन प्रबंधक एमएस पिंका का कहना है कि झांसी कंट्रोल की गलती से ट्रेन गलत ट्रैक पर चली गई थी. बाद में इसे सही ट्रैक पर लाया गया. जांच की जा रही है.