स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित हो रहे अजमेर शहर की सुंदरता में एक और आयाम जुड़ने जा रहा है. शहर की आठ प्रमुख कालोनियों में पार्कों को स्मार्ट पार्क के रूप में विकसित किया जाएगा. इन पार्कों में ओपन एयर जिम, वॉकिंग ट्रैक, झूले और अन्य सुविधाएं उपलब्ध होंगी. प्रत्येक पार्क पर 22 लाख रुपए खर्च होंगे. पार्क विकास के लिए 1.80 करोड़ रुपए का प्रावधान रखा गया है.


शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी ने गुरूवार को महापौर धर्मेंद्र गहलोत के साथ स्मार्ट सिटी योजना के


तहत गुलमोहर कालोनी वैशाली नगर एवं दीनदयाल उपाध्याय पार्क में स्मार्ट पार्क योजना के कामों का


शुभारंभ किया.


इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में देवनानी ने कहा कि करीब 1947 करोड़ रुपए लागत की स्मार्ट सिटी योजना अजमेर शहर की तस्वीर और तकदीर बदल कर रख देगी. शहर की सुंदरता और विकास के लिए स्मार्ट सिटी लिमिटेड द्वारा किए जा रहे काम यहां पर्यटन विकास का नया द्वार खोलेंगे.


उन्होंने कहा कि पिछले साढ़े चार साल में अजमेर उत्तर विधानसभा क्षेत्र में एक हजार करोड़ से अधिक के


कार्य कराए गए हैं. सडक़, पानी, बिजली एवं सौंदयकरण सहित शहर में भौतिक संसाधनों के विकास पर यह


राशि खर्च की गई है. राज्य सरकार ने सौंदयकरण के साथ ही शहर के लोगों की सुविधाओं का भी विशेष


ध्यान रखा है. स्मार्ट सिटी योजना के तहत 8 पार्कों को स्मार्ट पार्क के रूप में विकसित किया जाएगा. इनमें

ओपन एयर जिम व वॉकिंग ट्रैक, झूले और अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी. लोगों को वहां मनोरंजन


एवं व्यायाम के लिए विशेष सहूलियत मिलेगी.