उदयपुर में राजस्थान हाईकोर्ट की सर्किट बैंच की मांग की विरोध में राजस्थान हाईकोर्ट मुख्य पीठ जोधपुर में वकीलों का आंदोलन 33 वें दिन शुक्रवार को भी जारी रहा. इस बीच राजस्थान हाईकोर्ट की दोनों एसोसिएशन के प्रतिनिधिमंडल ने जोधपुर में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से अजीत भवन में मुलाकात की. मुख्यमंत्री से सार्थक वार्ता के बावजूद अभी तक हड़ताल खत्म करने को लेकर कोई फैसला नहीं हो पाया है. इस पर फैसला सोमवार को जनरल हाउस की बैठक में होगा.


वकीलों के प्रतिनिधिमंडल और मुख्यमंत्री के बीच हड़ताल समाप्ति को लेकर हुई वार्ता में मुख्यमंत्री ने वकीलों को मारवाड़ की गरिमा का पूरा ख्याल रखने का आश्वासन दिया. साथ ही यह भी साफ किया कि उदयपुर में हाईकोर्ट सर्किट बैंच के मामले में सरकार ने कोई कमेटी गठित नहीं की है. इसके बाद जैसे ही प्रतिनिधिमंडल हाईकोर्ट परिसर में धरना स्थल पर पहुंचे तो यहां पर एक बार फिर आंदोलन राजनीति की भेंट चढ़ता नजर आया. आंदोलन कर रहे कुछ वकीलों ने इसे धोखा करार देते हुए हंगामा शुरू कर दिया.


सोमवार को होगा निर्णय


राजस्थान हाईकोर्ट एडवोकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष जोशी ने वकीलों को संबोधित करते हुए कहा कि हड़ताल का निर्णय एसोसिएशन के जनरल हाउस में लिया गया है. ऐसे में सरकार के साथ हुई सकारात्मक वार्ता के बाद अब हड़ताल का कोई औचित्य नहीं रहता है. लेकिन अधिवक्ता चाहते हैं तो हड़ताल स्थगित करने का निर्णय सर्वसम्मति से ही होना चाहिए. उन्होंने इसके लिए सोमवार को जनरल हाउस की बैठक बुलाई है. अब सोमवार को जनरल हाउस की बैठक में हड़ताल स्थगित करने पर सभी वकीलों की सहमति लेने के बाद आगे निर्णय होगा. सुबह से यह संभावना जताई जा रही थी कि मुख्यमंत्री के साथ हुई सार्थक वार्ता के बाद अधिवक्ता शुक्रवार को हड़ताल स्थगित करने की घोषणा कर सकते हैं.