नई दिल्ली, बुराड़ी में एक ही परिवार के 11 सदस्यों के सामूहिक रूप से मौत को गले लगाने की घटना पर एक के बाद एक कई खुलासे सामने आ रहे हैं। भाटिया परिवार को पूरी उम्मीद थी कि मोक्ष प्राप्त करने कि क्रिया में उनकी मौत नहीं होगी, तभी परिवार की महिलाओं ने अगले दिन सुबह के नाश्ते के लिए छोले भिगो रखे थे। 

बुराड़ी कांड की कॉल मिलते ही सबसे पहले घटनास्थल पर पहुंची पुलिस की टीम को रसोई घर में नाश्ते के लिए भीगे छोले मिले थे। इतना ही नहीं दही भी जमाई गई थी। इसे देखते हुए ही पुलिस ने प्राथमिक जांच में सभी लोगों की हत्या होने का शक जताया था, लेकिन जांच के दौरान मिली ललित की डायरियों ने पूरे मामले की दिशा बदल दी। पुलिस अधिकारियों की मानें तो जिस तरह से ललित ने अपनी डायरी में लिखा था कि बाबा उन्हें बचाने आएंगे। उसी को सच मानकर घर की महिलाओं ने अगले दिन नाश्ते के लिए तैयारी पूरी कर रखी थी। वहीं प्रियंका ने भी ऑफिस जाने की पूरी तैयारी की हुई थी।

पड़ोसियों और सामान बेचने वालों से पूछताछ-

अपराध शाखा ने बुधवार को भाटिया परिवार के पड़ोसियों, रिश्तेदारों, जानकारों और उन लोगों से पूछताथ की, जिनसे उन्होंने सामान खरीदा था। पुलिस उस मोबाइल शॉप पर भी गई, जहां से ललित अपने मोबाइल के डिजिटल अकाउंट में पैसे डलवाते थे। इसके अलावा उस वेल्डिंद वाले युवक से भी पूछताछ की गई जिसने ललित के घर का लोहे का गेट बनाया था। पुलिस ने इलाके में स्थित राम मंदिर पुजारी जगदीश शर्मा से भी पूछताछ की।