टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का आज जन्मदिन है। वह शनिवार को 37 साल के हो गए। धोनी टीम इंडिया के सबसे सफलतम कप्तानों में से एक माने जाते हैं। उन्होंने टीम को कई यादगार जीते दिलाई है। आइये जानते हैं जन्मदिन के मौके पर धोनी के बेमिसाल क्रिकेट करियर से जुड़ी वो दिलचस्प बातें जो शायद आपको याद न होः

महेंद्र सिंह धोनी दुनिया में एकमात्र ऐसे कप्तान हैं जिन्होंने वन-डे में सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए शतक जमाए और वह भी पाकिस्तान के खिलाफ दिसंबर 2012 में।

महेंद्र सिंह धोनी ने वर्ल्ड कप 2011 के फाइनल में श्रीलंका के खिलाफ जिस बल्ले से विजयी शॉट खेला था, वह बल्ला 72 लाख रुपए में बिका था।

बिहार से अलग होकर नए राज्य के रूप में भारतीय नक्शे पर आने वाले झारखंड की ओर से महेंद्र सिंह धोनी पहले क्रिकेटर बने जिन्हें टीम इंडिया में जगह मिली।

महेंद्र सिंह धोनी ने पाकिस्तान के खिलाफ वन-डे और टेस्ट करियर में अपना पहला शतक जमाया। 2005-2006 में जमाए इन दोनों प्रारूपों में धोनी ने 148-148 रन बनाए।

धोनी ने जनवरी, 2006 में पाकिस्तान के फैसलाबाद में अपना पहला टेस्ट शतक जमाया था। यह किसी भी भारतीय विकेटकीपर की खेली गई टेस्ट में सबसे तेज शतकीय पारी भी रही।

धोनी की ही कप्तानी में टीम इंडिया ने टेस्ट क्रिकेट की एक पारी में सबसे ज्यादा रन बनाने का भारतीय रिकॉर्ड बनाया। 2009 में श्रीलंका के भारत दौरे के दौरान टीम इंडिया ने 9 विकेट पर 726 रन (पारी घोषित) बनाए थे।

महेंद्र सिंह धोनी के नाम टेस्ट क्रिकेट में बतौर विकेटकीपर-कप्तान सबसे ज्यादा स्टंपिंग करने का वर्ल्ड रिकॉर्ड दर्ज है। उन्होंने 2008 से 2013 तक 26 टेस्ट मैचों में मिली जीत में 18 बल्लेबाजों को स्टंप आउट किया है।

टीम इंडिया को 2 वर्ल्ड कप और एक चैंपियंस ट्रॉफी दिलवाने वाले महेंद्र सिंह धोनी के नाम विदेशी धरती पर सबसे असफल भारतीय कप्तान का बदनुमा दाग भी है। विदेशी धरती पर धोनी की कप्तानी में भारत 11 मैच हारा है।

धोनी की कप्तानी में भारत ने टेस्ट क्रिकेट में 21 अक्टूबर, 2008 को ऑस्ट्रेलिया को 320 रनों के विशाल अंतर से हरा दिया। यह टेस्ट में रनों के लिहाज से भारत की सबसे बड़ी जीत भी है।

टेस्ट क्रिकेट में भारत के सबसे सफल विकेटकीपर हैं धोनी। उन्होंने अब तक 248 बल्लेबाजों को आउट कराया है। 

जून, 2007 में महेंद्र सिंह धोनी ने एशिया एकादश की ओर से खेलते हुए अफ्रीका एकादश के खिलाफ श्रीलंका के महेला जयवर्धने के साथ छठे विकेट के लिए 218 रनों की साझेदारी की जो एक वर्ल्ड रिकॉर्ड है। दोनों ने इस साझेदारी में शतक भी ठोके।