वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 15 जुलाई को कचनार में प्रस्तावित सभास्थल में बदलाव हो सकता है। कचनार में राजातालाब के ऐतिहासिक रथयात्रा मेले के कारण जिला प्रशासन अन्य विकल्पों को तलाशने में जुट गया है। शुक्रवार को डीएम सुरेंद्र सिंह ने पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों की टीम के साथ कचनार के अलावा अराजी लाईन ब्लॉक के शाहावाबाद और काशी विद्यापीठ ब्लॉक के खुशीपुर गांव का निरीक्षण किया।


डीएम ने अधीनस्थ अधिकारियों को शाहावाबाद व खुशीपुर का नक्शा, वीडियो व फोटोग्राफ भेजने के निर्देश दिये हैं। जिला प्रशासन पीएमओ को इस संबंध में रिपोर्ट भेजेगा। दोनों में किसी एक स्थान पर अंतिम निर्णय एसपीजी की मुहर के बाद ही लिया जायेगा। 


प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान खुशीपुर में चुनावी रैली हो चुकी है। इस नाते इसे ही उपयुक्त स्थल के रूप में देखा जा रहा है। हालांकि बारिश को लेकर प्रशासन खुशीपुर में कार्यक्रम पर पसोपेश में है। वैसे जिला प्रशासन के निर्देश पर शुक्रवार सुबह ही कचनार में 50 से ज्यादा सफाईकर्मियों ने सभा स्थल के चारों तरफ के रास्तों पर साफ-सफाई शुरू कर दी है। 


वहीं एडीएम प्रशासन मुनींद्रनाथ उपाध्याय, एसपी ट्रैफिक सुरेश चंद्र रावत, एसपी प्रोटोकॉल विकास वैद्य, सीओ सदर अंकिता सिंह सहित पीडब्ल्यूडी के एक्सईएन जेजी पाण्डेय आदि अधिकारी कचनार पहुंचे और ग्रामीणों से बातचीत की। रथयात्रा मेले की जानकारी डीएम दी गई। इसके बाद शाम को डीएम ने कचनार के साथ शाहावाबाद व खुशीपुर गांवों का निरीक्षण किया।  अधिकारियों ने पार्किंग, हेलीपैड के संभावित स्थान देखे। एडीएम प्रशासन ने विकल्प के तौर पर सुबह जगतपुर पीजी कॉलेज के मैदान और बीरभानपुर गांव का भी निरीक्षण किया था। 


अधिकारियों ने करीब एक हजार छोटी-बड़ी गाड़ियों की पार्किंग को लेकर निरीक्षण किया और जरूरी निर्देश दिये। इसके अलावा टीम ने टोडरपुर मोहनसराय और राजा तालाब के आसपास के कॉलेजों व मैदानों का भी निरीक्षण किया। अधिकारियों ने सभी स्थानों के फोटो व वीडियो बनाये हैं। अधिकारियों का कहना है कि एक दो दिन में उपयुक्त स्थान का चयन होगा। कचनार में हेलीपैड बनने से सभा के लिए जगह कम होने की आशंका को देखते हुए हैलीपैड के लिये अन्य विकल्पों पर विचार हो रहा है।