लंदन | फॉलोअर बढ़ाने की ख्वाहिश में इंस्टाग्राम पर अपने डांस वीडियो अपलोड करने वाली मादेह होजाबरी की गिरफ्तारी से ईरानी महिलाएं भड़क उठी हैं। उन्होंने मादेह के प्रति समर्थन जताने के लिए न सिर्फ सोशल मीडिया पर अपने डांस वीडियो डाले हैं, बल्कि ‘डांसिंग इजेन्ट अ क्राइम’ जैसे हैशटैग के तहत ईरान सरकार की कार्रवाई की खुलकर निंदा भी कर रही हैं।


कौन हैं मादेह

-18 वर्षीय मादेह ईरान की उभरती हुई जिम्नास्ट हैं। इंस्टाग्राम पर बड़ी तादाद में फॉलोअर जुटाने की कोशिश में वह अपने बेडरूम में रिकॉर्ड किए गए डांस वीडियो साइट पर अपलोड करने लगी थीं। देखते ही देखते उनके हजारों फॉलोअर भी बन गए। 


सख्त कानून

-ईरान में महिलाओं के पहनावे-ओढ़ावे पर कड़ी शर्तें लागू हैं। वे हिजाब के बिना सार्वजनिक मंच पर नहीं दिखाई दे सकती हैं। महिलाओं के अपने पुरुष परिजनों के अलावा किसी अन्य व्यक्ति के सामने पुरुष साथी के साथ नृत्य करने पर भी पाबंदी है।


गिरफ्तारी का आधार

-मादेह के अकाउंट से तकरीबन 300 डांस वीडियो अपलोड किए गए हैं। इनमें से कुछ वीडियो में वह ईरानी तो कुछ में पश्चिमी संगीत पर नृत्य करती नजर आ रही हैं। कई वीडियो में उन्होंने हिजाब नहीं पहना है, जिसके मद्देनजर ईरान पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया।


सोशल मीडिया पर समर्थन

-ईरानी महिलाएं सोशल मीडिया पर खुलकर मादेह के समर्थन में उतर आई हैं। एक महिला ने ट्वीट किया, ‘मैं नाच रही हूं, ताकि प्रशासन देख सके कि वह मादेह जैसी लड़कियों को गिरफ्तार कर हमारी खुशी और उम्मीदें नहीं छीन सकता।’ एक अन्य महिला ने लिखा, ‘अगर आप दूसरे मुल्क के लोगों से कहेंगे कि हमारे देश में हत्यारे और हत्यारे खुलेआम घूमते हैं, पर सोशल मीडिया पर डांस वीडियो डालने वाली किशोरी को गिरफ्तार कर लिया जाता है तो वे हम पर हसेंगे।’


धार्मिक भावनाएं आहत करने का इरादा नहीं 

बीते शुक्रवार को सरकारी टीवी चैनल पर प्रसारित वीडियो में मादेह ने इंस्टाग्राम पर डांस वीडियो डालकर कानून तोड़ने की बात कबूल कर ली थी। हालांकि उसने यह भी साफ किया कि वह सिर्फ ज्यादा से ज्यादा फॉलोअर जुटाने की कोशिश कर रही थी। उसका धार्मिक भावनाओं को आहत करने और कानून का उल्लंघन करने का कोई इरादा नहीं था। जानकार मादेह के कबूलनामे को सरकारी दबाव का नतीजा मान रहे हैं।