देवरिया प्रेमी ने युवती की शादी तय होने के बाद घर से भागने के लिए दबाव बनाया। युवती ने मना किया तो प्रेमी ने उसे पेट्रोल डालकर फूंक दिया। युवती की गोरखपुर मेडिकल कालेज में इलाज के दौरान मौत हो गई। 21/22 जून को हुई घटना की मृतका के पिता की तहरीर पर पुलिस ने जांच की तो यह सच्चाई सामने आई।  इसका खुलासा प्रभारी क्षेत्राधिकारी बरहज दयाराम सिंह गौड़ ने पुलिस लाइन के सभागार में मंगलवार को किया।

 

उन्होंने बताया कि भलुअनी थाना क्षेत्र के बांकी सिंगही गांव का रहने वाले राहुल मद्धेशिया पुत्र रामप्रवेश मद्धेशिया का पड़ोस के गांव करौंदी की रहने वाली लक्ष्मीना पुत्री झिनक प्रसाद से पिछले पांच वर्षो से प्रेम प्रसंग चल रहा था। युवक का युवती के घर आना जाना था। युवती की मुलाकात भलुअनी स्थित राहुल के बड़े पिता की दुकान पर हुई। युवती वहीं एक विद्यालय में पढ़ती थी। इसी बीच युवक मुम्बई कमाने चला गया। वहां से 2015 में विदेश चला गया। जहां से दो वर्ष बाद वापस आया।

 

दोनों के प्रेम प्रसंग की गांव में चर्चा होने लगी। इसके बारे में युवती के पिता को पता चला तो उन्होंने बेटी की शादी सदर कोतवाली के एक गांव में तय कर दिया। युवती की मां नहीं थी।  घर पर अकेली युवती और उसके पिता रहते थे। युवती की शादी तय होने के बारे में प्रेमी को पता चला तो वह उसे घर से भागने के दबाव डालने लगा। युवती ने पिता के अकेले होने की बात कहकर मना कर दिया। इससे क्षुब्ध प्रेमी ने 21 जून की रात में घर के दरवाजे पर सो रही लक्ष्मीना के उपर पेट्रोल छिड़क कर आग लगा दी।  

 

इस बीच भागते समय राहुल का शर्ट वहीं गिर गया। युवती की इलाज के दौरान 22 जून को गोरखपुर मेडिकल कालेज में मौत हो गई। इस मामले में मृतका के पिता की तहरीर पर पुलिस ने राहुल के विरुद्ध धारा 326,302 और 3(2)5 एससी/एसटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया थी। पुलिस के अनुसार सोमवार की शाम को राहुल को ठाकुर देवरिया चौराहे से भलुअनी की प्रभारी निरीक्षक सरोज शर्मा ने गिरफ्तार कर लिया। देर शाम पुलिस ने युवक को न्यायालय में पेश किया जहां से उसे जेल भेज दिया गया।

 

प्रेमी ने कबूला गुनाह 

पुलिस की गिरफ्त में आए प्रेमी राहुल ने अपना गुनाह कबूल लिया। उसने बताया कि घटना का उसे काफी अफसोस है। मैं अपनी प्रेमिका को दूसरे के साथ नहीं देख सकता था। किसी दूसरे से शादी नहीं करने के लिए कई बार कहा, लेकिन वह मानने को तैयार नहीं थी। मैं पिछले पांच वर्षो उससे प्यार करता था। विदेश कमाने के बाद रुपया प्रेमिका और उसके पिता को दिया था। युवती ने शादी का वादा किया था। पिछले कुछ माह से मैं गांव ही रह रहा था इस लिए उसके पिता ने युवती की शादी तय कर दी। वह भी मुझे छोड़ने के लिए तैयार हो गई थी।