इंग्लैंड के बल्लेबाज जो रूट का मानना है कि ऑस्ट्रेलिया सहित उनके हाल के प्रतिद्वंद्वियों की तुलना में भारत अलग तरह की चुनौती पेश करेगा और आज से शुरू हो रही तीन वनडे मैचों की सीरीज में विराट कोहली की अगुआई वाली टीम को हराने के लिए मेजबान टीम को अपना बेस्ट खेल दिखाना होगा। इंग्लैंड ने पिछले महीने घरेलू वनडे सीरीज में ऑस्ट्रेलिया को 5-0 से हराया था।

रूट ने कहा,  'लंबे समय से इस फॉरमैट में भारत काफी मजबूत टीम है। वे जब पिछली बार यहां आए थे तो उन्होंने वनडे सीरीज जीती थी। मुझे पता है कि जिस टीम के खिलाफ हम खेले थे उससे ये टीम काफी अलग है लेकिन हम कहां खड़े हैं ये देखने का ये शानदार मौका है।' उन्होंने कहा, 'वनडे फॉरमैट में हमने कुछ मजबूत क्रिकेट खेला है और भारत दुनिया की बेस्ट वनडे टीमों में से एक है। हमने हाल के समय में जिन चुनौतियों का सामना किया वे उससे अलग चुनौती पेश करेंगे लेकिन हमें पता है कि अगर हम अपनी क्षमता के अनुसार खेलते हैं, सीखना और सुधार जारी रखते हैं तो हमारे खिलाफ खेलना आसान नहीं होगा खासकर घरेलू मैदान पर।'

मुझे टीम में अपनी जगह गंवाने का डर नहीं


रूट ने साथ ही कहा कि उन्हें सीमित ओवरों की टीम में अपनी जगह गंवाने का डर नहीं है। उन्होंने कहा, 'इसे लेकर मुझे कोई डर नहीं है। मैं सिर्फ ये देखना चाहता हूं कि सभी तीनों फॉरमैट में हमारी टीम संतुलित हो लेकिन मैं उनका हिस्सा बनना चाहता हूं। ये मुश्किल है क्योंकि मुझे टी 20 क्रिकेट खेलने के सीमित मौके मिले हैं, लेकिन मेरे लिए इंग्लैंड के लिए खेलना सर्वोच्च है।


बुमराह का पहला वनडे खेलना मुश्किल


इस सीरीज को दो बेस्ट टीमों की जंग माना जा रहा है, जिनकी नजरें अगले साल होने वाले वर्ल्ड कप पर टिकी हैं। रूट ने कहा कि ये सीरीज अच्छा संकेत देगी कि दोनों टीमों की स्थिति क्या है जबकि वर्ल्ड कप की शुरुआत में एक साल से भी कम समय बचा है। वनडे सीरीज के दौरान बल्लेबाजी के अनुकूल पिचों की उम्मीद है। ट्रेंटब्रिज की पिच इंग्लैंड के बल्लेबाजों को काफी रास आती है जिन्होंने तीन सीजन में यहां दो बार 400 से अधिक का स्कोर बनाया है। एकदिवसीय सीरीज में नजरें भारत के कलाई के स्पिनरों पर रहेंगी लेकिन मेहमान टीम को जसप्रीत बुमराह की कमी खलेगी जबकि पीठ में तकलीफ के कारण भुवनेश्वर कुमार का भी पहले वनडे में खेलना संदिग्ध है।