घर का मुख्य दरवाजा ना सिर्फ आपके घर के लिए बल्कि आपकी जिंदगी में भी बहुत खास माना जाता है। यहीं से सबसे ज्यादा सकारात्मक और नकारात्मक ऊर्जा आपके घर में प्रवेश करती हैं। अगर आपके घर का मुख्य दरवाजा सही है तो मां लक्ष्मी की भी आप पर हमेशा कृपा बनी रहती है, जिससे आपके परिवार में सुख-शांति बनी रहती है। आप मानो या ना मानो लेकिन वास्तुशास्त्र के अनुसार आपकी जिंदगी की काफी समस्याओं को वास्तु सुलझा सकता है तो आज हम आपको बताते हैं कि आपके घर का मुख्य दरवाजा कैसा होना चाहिए। इससे आप पर हमेशा मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहेगी….

वास्तुशास्त्र के अनुसार, आपके घर के सामने पेड़ या खंभा नहीं होना चाहिए, इसकी छाया अशुभ प्रभाव डालती है। अगर ऐसा है तो घर के मेन गेट पर रोज स्वास्तिक बनाएं। साथ ही मेन गेट के आस-पास तुलसी का पौधा होना शुभ माना जाता है। ऐसा करने से घर में प्रवेश करने वाली सारी नकारात्मक ऊर्जा, सकारात्मक ऊर्जा में बदल जाती है।

कहा जाता है कि घर का मुख्य दरवाजा दक्षिण-पश्चिम दिशा में नहीं होना चाहिए। घर का प्रवेश द्वार हमेशा उत्तर-पूर्व की ओर या फिर दक्षिण-पूर्व की ओर होना चाहिए। इससे माता लक्ष्मी की हमेशा आप पर कृपा बनी रहती है और घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है।

घर के मुख्य दरवाजे पर हमेशा डोरमैट होना चाहिए, यह आपकी कई समस्याओं का समाधान करता है। वास्तु के अनुसार, घर के मेनगेट पर हमेशा आयातकार होना चाहिए। इससे आपसी रिश्ते मजबूत होते हैं और जीवन में ठहराव भी लाता है।

आपके घर का मुख्य दरवाजा घर के किसी भी अन्य दरवाजे से बड़ा होना चाहिए। आजकल आपको एक पल्ले के दरवाजे दिखाई देते होंगे लेकिन दो पल्ले के दरवाजे शुभ होते हैं। कम से कम मुख्य दरवाजे पर दो पल्ले होने चाहिए। इससे आपकी आर्थिक स्थिती मजबूत होती है।

घर के मुख्य दरवाजे को खोलते समय किसी भी प्रकार की आवाज नहीं करनी चाहिए और ना ही रगड़ खानी चाहिए। इससे पैसा कमाने के लिए आपको ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ेगी। इस बात का ध्यान रखें कि घर का कोई सदस्य द्वार से आते-जाते समय किसी प्रकार की असुविधा का अनुभव न करे।

वास्तु के मुताबिक, मुख्य दरवाजे पर हमेशा एक नेमप्लेट लगानी चाहिए। ऐसा माना जाता है कि नेमप्लेट आपके घर में धन, समृद्धि और अच्छे स्वास्थ्य को आमंत्रित करता है। नेमप्लेट को हर रोज साफ करें और इस पर धूल न चढ़ने दें।

मुख्य द्वार के लिए लकड़ी का दरवाजा सबसे शुभ माना गया है। दरवाजा बनवाते समय ध्यान देना चाहिए कि उसमें धातु का कम प्रयोग हो। इससे आपके घर में हमेशा सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है और मां लक्ष्मी की भी कृपा बनी रहेगी। साथ ही मुख्य द्वार का आकार आयताकार रखें।

घर का मुख्य दरवाजा हमेशा अंदर की ओर खुलना चाहिए, इससे घर में सुख-शांति बनी रहती है। वहीं बाहर की ओर दरवाजा खुलने से रोग और खर्च बढ़ते हैं।