उत्तर भारत की सबसे बड़ी कांवड़ यात्रा के मद्देनजर मेरठ में शुक्रवार को 6 राज्यों के पुलिस और प्रशासन के अफसर मौजूद हैं. कमिश्नर सभागार में आयोजित इस बैठक में यूपी पुलिस के डीजीपी ओपी सिंह और प्रमुख सचिव (गृह) अरविंद कुमार मौजूद है. बैठक में उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान के पुलिस अफसर खासतौर पर आमंत्रित किये गए है. मेरठ के बाद डीजीपी ओपी सिंह और प्रमुख सचिव (गृह) अरविंद कुमार आज वाराणसी जाएंगे. जहां वह अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक करेंगे.


बता दें कि गंगोत्री से लेकर हरिद्वार तक से यूपी समेत इन छह राज्यों से करीब 3 करोड़ शिवभक्त कांवड़ लेकर सावन के महीने में जाते हैं. इस दौरान रुट निर्धारण और रोड डायवर्जन के अलावा शिवभक्तों की सुरक्षा बड़ा मुद्दा है.


मेरठ में आज आयोजित बैठक में हरियाणा के डीजी, उत्तराखंड के एडीजी कानून-व्यवस्था, गढ़वाल मंडल के डीआईजी, हिमाचल प्रदेश के डीजी, राजस्थान के भरतपुर आइजी और दिल्ली के ईस्टर्न और नार्थ-ईस्ट डीसीपी भाग ले रहे है. पश्चिमी यूपी के तीन मंडलों सहारनपुर, मेरठ और मुरादाबाद के जिलों के एसएसपी, जिलाधिकारी भी इस बैठक में डीजीपी और प्रमुख सचिव के सामने तैयारियां का खाका पेश करेंगे.


वेस्ट यूपी के जिलों के रेलवे स्टेशन सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर 3 श्रेणी में बांटे गए हैं. सभी स्टेशन सीसीटीवी से लैस रहेंगे और सुरक्षा के लिए स्टेशन और ट्रेनों में अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात करने के निर्देश जारी हुए हैं. मसूरी एक्सप्रेस समेत 9 प्रमुख ट्रेनों पर इन दिनों नज़र रहेगी. आशंका के चलते संप्रदाय के लिहाज से मेरठ, मुजफ्फरनगर, शामली, देवबंद, सहारनपुर के रेलवे स्टेशन संवेदनशील श्रेणी में रखे गए हैं.