जयपुर। राजस्थान के कोटा के रामगंजमंडी क्षेत्र में दो लोगों का अंतिम संस्कार खेत में टायर और ट्यूब से किया गया। ग्रामीणों के मुताबिक मुक्तिधाम तक जाने वाले रास्ते के पूरी तरह से बंद होने के कारण ऐसा करना पड़ा।


रामगंजमंडी सलावद पंचायत के रामपुरिया गांव का रहने वाले एक व्यक्ति की मौत बुधवार को हो गई थी। मृतक का घर के पास ही खेत पर अंतिम संस्कार किया गया। अंतिम संस्कार के लिए टायर, ट्यूब, पेट्रोल और अन्य ज्वलनशील पदार्थ डाला गया। रामगंजमंडी क्षेत्र में इसी तरह का दूसरा मामला देवली खुर्द पंचायत के बिशनियाखेड़ी का है।


यहां गुरुवार को 45 साल के मृतक लाल चंद मीणा के शव का अंतिम संस्कार भी इसी तरह टायर और ट्यूब का प्रयोग कर किया गया। गांव वालों के अनुसार क्षेत्र के मुक्तिधाम तक जाने वाले रास्ते की हालत बेहद खराब है। यहां से अंतिम यात्रा का निकलना तो दूर, एक अकेले आदमी का निकलना भी मुश्किल है। साथ ही वहां पर टीन शेड तक की उचित व्यवस्था नहीं है। दोनों ही मामलों को जिला परिषद के विकास अधिकारी ने रिपोर्ट मांगी है।