जोधपुर.माणक चौक क्षेत्र स्थित तूरजी का झालरा में शनिवार रात 8 बजे एक युवक पानी में गिरा तो भीड़ लग गई। लोगों के चिल्लाने की आवाजें सुनकर पास ही घूम रही जर्मन पर्यटक लुइसा वहां पहुंची। वो लोगों की बातें तो नहीं लेकिन इशारे से पानी में किसी की गिरने की बात समझ गई।


अजनबी जान को डूबने से बचाने के लिए लुइसा ने तत्काल कपड़े खोले और पानी में छलांग लगा दी। झालरा के सामने ही स्थित एक गेस्ट हाउस में ठहरे कोरियाई पर्यटक ह्यून जीक किम ने भी लोगों की भीड़ व नजारा देखा, तो वो भी दौड़कर मौके पर पहुंचा। लुइसा की मदद के लिए वो भी पानी में कूद गया। दोनों ने युवक को बचाने के लिए पानी में खूब हाथ-पैर मारे, उधर झालरे के बाहर भीड़ बढ़ती गई। काफी कोशिश के बाद भी दोनों युवक को नहीं बचा नहीं पाए। बाद में स्थानीय गोताखोरों ने युवक का शव बाहर निकाला। युवक की बॉडी देखकर दोनों सैलानी रोने लगे। गोताखोर विक्रमनाथ, सुरेश व धर्मवीर सिंह को बॉडी ढूंढने में 1 घंटा लगा। घंटाघर चौकी से हैड कांस्टेबल सुरताराम व सुमेरसिंह भाटी भी मौके पर पहुंचे। युवक की पहचान नहीं हो पाई।


20-22 साल उम्र, दायीं कलाई पर लिखा है ‘केके’:मौके पर युवक के शव की शिनाख्त नहीं हो पाई, तो पुलिस ने इसे एमजीएच मोर्चरी में रखवाया। पुलिस के अनुसार युवक की उम्र करीब 20-22 साल है। उसके दाहिने हाथ की कलाई पर अंग्रेजी में ‘KK’ लिखा है। उसने ब्लू जींस व काले रंग का फूल पत्तियों वाला शर्ट पहना हुआ है।



गत माह भी 3 युवक गिरे, किशोर ने बचाई थी 2 की जान:तूरजी का झालरा में नहाने के चक्कर में पिछले महीने भी तीन युवक पानी में गिर गए थे। पास ही रहने वाले किशोर दीपकसिंह टाक ने दो युवकों को तो बाहर निकाल लिया था। सेना के मेजर के बेटे कन्हैया कुमार चौधरी की जान चली गई थी।