भोपाल : राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने आज जबलपुर में नानाजी देशमुख पशु चिकित्सा विश्वविद्यालय के गर्ल्स हॉस्टल की व्यवस्थाओं का जायजा लिया। राज्यपाल ने छात्राओं से सहूलियतों तथा समस्याओं के बारे में चर्चा की। राज्यपाल ने हॉस्टल परिसर में आंवले का पौधा लगाया और डिजिटल लाइब्रेरी का लोकार्पण किया।


राज्यपाल ने छात्राओं को समझाईश दी कि 15 दिन में एक बार पूरा किचिन साफ करें और खाना भी बनाएं। विवाह के बाद उन्हें ससुराल में यह कहने की नौबत नहीं आनी चाहिए कि हॉस्टल में रहती थी, इसलिए खाना बनाना नहीं आता। राज्यपाल ने छात्राओं से वादा किया कि वे उनके हाथों से बने खाने का स्वाद लेने जरूर आएंगी। राज्यपाल ने औषधीय पौधों से निर्मित हर्बल दवाओं में दिलचस्पी दिखाई। उन्होंने गोबर गमला निर्माण प्रक्रिया और पानी की शुद्धता के परीक्षण के लिए लगाई गई हाई-टैक मशीन की कार्य-विधि भी देखी। राज्यपाल ने कहा कि स्वच्छता के संदेशों का वांछित प्रभाव तभी होगा,जब सभी स्वयं स्वच्छता के लिए काम करें। उन्होंने छात्राओं से अपील की कि सप्ताह में एक दिन सफाई के काम का बीड़ा खुद उठाये। राज्यपाल की प्रेरणा से छात्राओं ने तुरंत हॉस्टल और विश्वविद्यालय की स्वच्छता का ध्यान रखने की शपथ ली।