मनिका बत्रा समेत सात टेबल टेनिस खिलाड़ियों को एयर इंडिया ने आज इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से मेलबर्न जाने वाली विमान के लिए बोर्डिंग पास नहीं दिया जिससे वे अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता के लिए अपनी यात्रा शुरू नहीं कर पाये।  भारतीय दल में 17 खिलाड़ी और अधिकारी शामिल हैं जिन्हें सोमवार से शुरू हो रहे आईटीटीएफ विश्व टूर ऑस्ट्रेलिया ओपन में भाग लेना था। 


खिलाड़ियों की परेशानी उस वक्त बढ़ गयी जब एयर इंडिया ने कहा कि विमान की सीटें भरी हुई हैं और सिर्फ 10 लोगों को ही बोर्डिंग पास दिया जा सकता है। मनिका के अलावा अनुभवी मौमा दास भी उन सात खिलाड़ियों में हैं जिन्हें बोर्डिंग पास नहीं दिया गया। राष्ट्रमंडल खेलों की स्वर्ण पदक विजेता मनिका ने अपनी परेशानी को साझा करते हुए सोशल मीडिया के जरिये खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर और प्रधानमंत्री कार्यालय से मामले में दखल देने की मांग की। 


उन्होंने लिखा कि  हमारे 17 सदस्यीय दल को सोमवार से शुरू हो रहे आईटीटीएफ वर्ल्ड टूर ऑस्ट्रेलियाई ओपन में भाग लेने के लिए एयर इंडिया की विमान संख्या एआई 0308 से मेलबर्न जाना था। इस दल में राष्ट्रमंडल खेलों के पदक विजेता मेरे अलावा शरत कमल, मौमा दास , मधुरिका , हरमीत , सुथिर्ता , साथियन भी शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि एयर इंडिया काउंटर पर पहुंचने पर हमें बताया गया कि विमान की सीटें जरूरत से ज्यादा आरक्षित हैं और टेबल टेनिस टीम के केवल 10 सदस्य ही उड़न भर सकते हैं। इस रवैये से हम सदमे में हैं।  हम में से सात खिलाड़ी अब भी उड़ान भरने में असमर्थ हैं। सभी टिकट ' बामर लॉरी  द्वारा आरक्षित किए गए थे।


इसके बाद भारतीय खेल प्राधिकरण की महानिदेशक नीलम कपूर तुरंत कार्रवाई करते हुए इसका हल निकाला। कपूर ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर पुष्टि कि टेबल टेनिस टीम को आज रात की एक वैकल्पिक उड़ान से भेजा जा रहा है।  इस मामले पर प्रतिक्रिया के लिए एयर इंडिया के प्रवक्ता से संपर्क नहीं हो पाया।