रावण बहुत विद्वान था। धार्मिक पुस्तकों में उसे प्रखांड पंडित की उपाधि भी दी गई है। लेकिन कुछ अवगुणों के कारण वह अपने परिवार के साथ ही सोने की लंका को भी गंवा बैठा और आज भी उसे एक दुराचारी और पापी की तरह ही देखा जाता है। रावण का सर्वनाश करने से पहले श्रीराम ने उसे अनेक अवसर दिए थे ताकि वह अपना आचरण सुधार सके। इन्हीं में से एक मौका वह था, जब अंगद रावण को उसी की सभा में ऐसी 14 बातों के बारे में बताते हैं, जो इंसान के सर्वनाश का कारण बनती हैं…

वाम मार्गी होने का अर्थ है, सही दिशा में चल रहे काम में भी कमी निकलते रहनेवाला व्यक्ति। जिसका काम ही सिर्फ कमियां निकलाना हो। ऐसा व्यक्ति कभी खुश नहीं रह पाता और उसके अंदर की घृणा उसे ही कमजोर करती रहती है।

जो संतों का विरोध करे, शास्त्रों को पाखंड कहे और ईश्वरीय सत्ता में यकीन न रखता हो। ऐसा व्यक्ति अक्सर अकेला और नकारात्मकता से भरा होता है। संतों को बिना जानें, शास्त्रों को बिना पढ़े और प्रभु की महिमा को जाने बिना खुद की श्रेष्ठ समझनेवाला मृत प्राय होता है।

जो केवल अपने हित के लिए सोचे। हर चीज और सूचना खुद तक ही सीमित रखना चाहे। ऐसे लोग समाज और राष्ट्र के किसी काम नहीं आते, इसलिए इन्हें मृत के समान ही समझना चाहिए।

जिस व्यक्ति का खुद पर नियंत्रण न हो। अपनी इंद्रियों के वशीभूत होकर जो पाप कर्म और कामवासना में लीन रहता हो, ऐसा व्यक्ति समाज विरोधी और मरे के समान होता है।

ऐसा इंसान जो अपने जीवन के हर छोटे-बड़े कर्म और फैसलों के लिए दूसरों पर निर्भर हो, वह भी मृत व्यक्ति के समान ही होता है। क्योंकि ऐसे लोग समाज के विकास में कोई योगदान नहीं दे पाते।

जो लोग अपने कर्मों और सोच के कारण बदनाम हों, वे मृत व्यक्ति के समान हैं। बुरे कर्मों के कारण ऐसे लोगों से कोई संबंध नहीं रखना चाहता, जिस कारण इन्हें समाज का हिस्सा ही नहीं माना जाता।