नई दिल्ली। दिल्ली में सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी भाजपा ने राज्य में सरकार बनाने से इन्कार कर दिया है। उपराज्यपाल नजीब जंग मिलने के बाद बृहस्पतिवार को भाजपा विधायक दल के नेता डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि उनकी पार्टी बेशक सबसे बड़े दल के रूप में उभरी है, लेकिन हमारे पास सरकार बनाने के लिए पर्याप्त संख्या नहीं है। हम विपक्ष में रहकर दिल्ली की जनता के सेवा करते रहेंगे। उपराज्यपाल ने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निर्देश पर बुधवार डॉ. हर्षवर्धन को सरकार गठन पर वार्ता के लिए आमंत्रित किया था।

हर्षवर्धन ने उपराज्यपाल से मिलने के बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा कि हमें जनता ने पूर्ण बहुमत नहीं दिया। हम अपने साथी के साथ 32 सीटें ही जीत पाए जबकि सरकार बनाने के लिए चार सीट और चाहिए था। उन्होंने कहा कि हम सरकार बनाने के लिए किसी भी दल में तोड़फोड़ नहीं करना चाहते।

मालूम हो कि दिल्ली विधानसभा की 70 सीटों पर चुनाव के बाद भाजपा व सहयोगी को 32, आम आदमी पार्टी को 28 और कांग्रेस को आठ सीटें मिली हैं। दूसरी नंबर की पार्टी आप पहले ही कह चुकी है कि वह न तो किसी का समर्थन लेगी और न किसी को समर्थन देगी। ऐसे में दिल्ली एक और चुनाव की ओर आगे बढ़ गई है।

Source ¦¦ agency