राजस्थान में रिकार्ड जीत के साथ सत्ता में वापसी कर मुख्यमंत्री पद की शपथ ले चुकीं वसुंधरा राजे के मंत्रिमंडल का गठन रविवार के बाद सप्ताह के भीतर ही जाएगा।

सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने संघ और भाजपा के केंद्रीय नेताओं से मंथन के बाद राजे ने करीब एक दर्जन मंत्रियों की सूची तैयार कर ली है।

भाजपा आलाकमान का मानना है कि लोकसभा चुनाव के मद्देनजर तीनों राज्यों का मंत्रिमंडल शीघ्र बनाया जाए, ताकि चुनाव में पार्टी को लाभ मिल सके।

सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे मुख्यमंत्री पद के साथ अपने पास 5 महत्वपूर्ण विभागों की जिम्मेदारी रखेंगी, जिनमें वित्त, कार्मिक, सामान्य प्रशासन, बिजली व पर्यटन विभाग हो सकते हैं।

इसमें प्रदेश के प्रमुख नेताओं को पहले दौर में मंत्री पद की शपथ दिलाए जाने की तैयारी है। शेष को लोकसभा चुनाव के बाद ही पद पर बैठाने का निर्णय किया जाएगा।

माना जा रहा है कि प्रथम मंत्रिमंडल में राजे सभी जातियों को प्रतिनिधित्व देने का प्रयास कर रही हैं। भाजपा के वरिष्ठ नेता व विधायक घनश्याम तिवाड़ी को लेकर ऊहापोह की स्थिति बनी हुई है।


गुलाबचंद कटारिया को गृह व नागरिक सुरक्षा, कैलाश मेघवाल को सामाजिक न्याय, नरपतसिंह राजवी चिकित्सा, अरूण चतुर्वेदी व वासुदेव देवनानी को समस्त शिक्षा, कालूलाल गुर्जर को ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज, नंदलाल मीणा को जनजाति विकास, सांवरलाल जाट को जल संसाधन, प्रभुलाल सैनी को कृषि मंत्री तथा प्रतापसिंह सिंघवी को स्वायत्त शासन एवं नगरीय विकास विभाग मिलने की उम्मीद है।

Source ¦¦ agency