मुंबई। कोलकाता नाइट राइडर्स आइपीएल 7 के फाइनल में पहुंच गई है। अब फाइनल में कौन सी दूसरी टीम पहुंचेगी इस पर सबकी नजरें टिकी हुई है। आइपीएल सात के फाइनल में दूसरी टीम के तौर पर जगह बनाने के लिए दो बेहद मजबूत टीम चेन्नई और पंजाब मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम पर एक दूसरे को चुनौती देंगे। जीतने वाली टीम दूसरी फाइनलिस्ट होगी और उसका मुकाबला कोलकाता के नाइट राइडर्स से होगा।

आइपीएल 7 के लीग मुकाबलों पर नजर डालें तो पंजाब की टीम चेन्नई से मजबूत नजर आती है। पंजाब ने चेन्नई को दोनों ही लीग मुकाबलों में हराया साथ ही अंकों के मामले में भी वो चेन्नई से आगे रही। मगर क्वालिफायर एक के मुकाबले में जिस तरह से पंजाब ने कोलकाता के सामने घुटने टेके उससे तो यही लगता है कि टीम की लय इस वक्त सही नहीं है।

जबकि दूसरी तरफ एलिमिनेटर मैच में चेन्नई ने मुंबई को सात विकेट से हरा कर बड़ी जीत दर्ज की। कुल मिलाकर आंकड़े और प्रदर्शन दोनों दो तरफ इशारे कर रहे हैं, मगर जेंटलमैन गेम क्रिकेट में अनिश्चितता बनी रहती है और क्या हो जाए किसी को पता नहीं होता।

पंजाब की टीम पर नजर डाली जाए तो टीम की बैटिंग लाइन अप गजब की है। ऐसी बैटिंग लाइन अप किसी भी टीम की नहीं रही। टीम के ओपनर विरेन्द्र सहवाग और मनन वोहरा बेहद विस्फोटक बल्लेबाज हैं। इनके बाद रिद्धिमान साहा, ग्लेन मैक्सवेल, किलर मिलर, कप्तान जॉर्ज बेली की मौजूदगी किसी भी दूसरी टीम में खौफ पैदा करने के लिए काफी है। हालांकि इन खिलाड़ियों के टैलेंट पर कोई शक नहीं है मगर कोलकाता के खिलाफ जिस तरह से ये सारे फिसड्डी साबित हुए उसने कई सवाल खड़े कर दिए।

इस टीम की कमजोर कड़ी इसकी बॉलिंग है जो महज एक या दो गेंदबाजों के इर्द-गिर्द ही घूमती नजर आती है। दूसरी तरफ चेन्नई की टीम बेहद संतुलित है। ओपनर ड्वेन स्मिथ और ब्रैंडन मैकुलम टीम को जबरदस्त शुरुआत दे रहे हैं। इनके बाद सुरेश रैना, डेविड हसी, डू प्लेसिस और खुद कप्तान धौनी किसी भी परिस्थिति में टीम को जीताने की ताकत रखते हैं। चेन्नई की गेंदबाजी पंजाब के मुकाबले मजबूत नजर आती है।

टीम में मोहित शर्मा, रविन्द्र जडेजा और आर. आश्विन जैसे गेंदबाज हैं जिनका अब तक का प्रदर्शन बढि़या रहा है। कुल मिलाकर दोनों ही टीमें फाइनल में जाना डिजर्व करती है मगर, इस मुकाबले में वही टीम जीतेगी जिसका प्रदर्शन शानदार रहेगा।

Source ¦¦ agency