नई दिल्ली। आइपीएल 7 की शुरुआत में कोलकाता नाइट राइडर्स के कप्तान गौतम गंभीर ने जिस तरह का प्रदर्शन किया उसके बारे में खुद उन्होंने भी नहीं सोचा होगा। गंभीर की खराब बल्लेबाजी की अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि वो लगातार तीन बार मुंबई, दिल्ली और बेंगलूर के खिलाफ शून्य पर आउट हुए। हालांकि अपने फार्म को पाने के लिए उन्होंने चौथे मैच में पंजाब के खिलाफ अपना बैटिंग आर्डर भी बदला मगर किस्मत ने उनका साथ नहीं दिया और वो एक रन पर आउट हो गए। अपने लचर प्रदर्शन से परेशान आखिर में गंभीर ने ऐसा क्या किया कि वो एकदम से जीरो से हीरो बन गए।

दरअसल गंभीर अपने शुरुआती मैचों में 5 नम्बर की जर्सी पहनते थे, मगर जैसे ही उन्होंने 23 नम्बर की जर्सी पहननी शुरू की उनका भाग्य एकदम से बदल गया। इस जर्सी को पहनने के बाद गंभीर ना सिर्फ फार्म में वापस आ गए बल्कि उन्होंने लगातार राजस्थान, दिल्ली और पंजाब के खिलाफ तीन अर्धशतक भी लगाया। इसके बाद से उनकी बैटिंग में और भी निखार आता चला गया। आइपीएल 7 गंभीर ने अब तक खेले 15 मैचों में 312 रन बनाए हैं। इसके अलावा उनकी टीम भी मैच जीतने लगी और अब आलम ये है कि जिस टीम के बारे में अंदाजा लगाया जा रहा था कि वो टाप चार में भी नहीं पहुंच पाएगी वो टीम आज आइपीएल के फाइनल में पहुंच चुकी है। नई जर्सी पहनने की कहानी यहीं खत्म नहीं होती। जिस टीम इंडिया में वापसी के लिए गंभीर बेताब थे वहां भी उनकी वापसी हुई और वो इंग्लैंड दौरे के लिए टेस्ट टीम में चुन लिए गए। गंभीर की टेस्ट टीम में डेढ़ साल बाद वापसी हुई है। उन्होंने अपना आखिरी टेस्ट दिसंबर 2012 में नागपुर में इंग्लैंड के खिलाफ खेला था।

Source ¦¦ agency