आईपीएल सात की सबसे निरंतर टीम किंग्स इलेवन पंजाब की निगाहें कोलकाता नाइटराइडर्स के साथ होने वाली खिताबी भिड़ंत में अपनी पहली ट्राफी हासिल करने पर लगी होंगी.

विवादों से प्रभावित कुछ सत्र के बाद आईपीएल आयोजक अंतत: राहत की सांस ले रहे होंगे कि मौजूदा सत्र बिना किसी मुसीबत के निकल गया और सभी का ध्यान फिर से क्रिकेट पर लगा है. रविवार को बेंगलूरू में होने वाले फाइनल मुकाबले पर सभी की नजरें टिकी होंगी जब केकेआर और पंजाब की भिड़ंत होगी.

अनुभवी सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने 58 गेंद में 122 रन की शतकीय पारी खेलकर किंग्स इलेवन पंजाब को पहली बार आईपीएल के फाइनल में पहुंचा दिया. वह ग्लेन मैक्सवेल और डेविड मिलर के साथ केकेआर के लिये सबसे बड़ा खतरा होंगे, जो सुनील नारायण की अगुवाई वाली मजबूत गेंदबाजी इकाई पर निर्भर होगी.

दोनों टीमों के खिलाड़ी अपने टीम मालिकों शाहरूख खान और प्रीति जिंटा को आईपीएल खिताब भेंट स्वरूप देना चाहेंगे. कोलकाता की टीम एक बार पहले भी खिताब हासिल कर चुकी है और दूसरी बार इसे जीतना चाहेगी, लेकिन पंजाब की टीम कभी भी फाइनल का हिस्सा नहीं बनी.

केकेआर को हालांकि ऐसा करने के लिये प्रतिद्वंद्वी टीम के सबसे ज्यादा रन जुटाने वाले मैक्सवेल, मध्यक्रम में मिलर, मनन वोहरा, कप्तान जार्ज बेली और रिद्धिमान साहा की चुनौती से निपटना होगा. पंजाब को मैक्सवेल की फार्म से चिंतित नहीं होना चाहिए.

इस 25 वर्षीय आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने अबुधाबी और कटक में 90 से ज्यादा रन की पारियां खेलीं. मैक्सवेल की यह विस्फोटकीय क्षमता केकेआर की थिंक टैंक के लिये चर्चा का विषय होगी.

केकेआर की टीम हालांकि इस बात का फायदा उठाने की कोशिश करेगी कि जिस टीम को ग्रुप चरण में रोकना मुश्किल था, वह पिछले कुछ मुकाबलों में थोड़ी ढीली दिखी. उन्हें 28 मई को ईडन गार्डंस में केकेआर से शिकस्त मिली.

पहले सात मैचों में दो जीत के बाद टूर्नामेंट के बीच में केकेआर को बाहर ही मान लिया गया था, लेकिन उन्होंने वापसी करते हुए प्लेआफ में जगह बनायी. यूसुफ पठान की 22 गेंद में 72 रन की पारी ने उन्हें दूसरे स्थान पर पहुंचा दिया और उन्होंने लगातार आठ मैच जीते.

मजबूत टीम हालांकि पंजाब ही होगी लेकिन उन्हें भी केकेआर की लय से चौकस रहना होगा और बेली के खिलाड़ियों के लिये चिन्नास्वामी स्टेडियम में प्रतिद्वंद्वियों को रोकना चुनौतीपूर्ण होगा.
  
ओरेंज कैपधारी रोबिन उथप्पा कप्तान गौतम गंभीर के साथ केकेआर को बेहतरीन शुरूआत देने में अहम रहे हैं. इन दोनों ने टीम को अच्छी शुरूआत करायी, जिसके बाद शकिबुल हसन, रेयान टेन डोऐश और यूसुफ ने रन गति बढ़ायी. यूसुफ ने दिखा दिया कि वह कितने खतरनाक हो सकते हैं, यहां तक कि दुनिया का नंबर एक तेज गेंदबाज डेल स्टेन भी उन्हें चुनौती नहीं दे सका. बड़ौदा के इस स्टार खिलाड़ी ने इस दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाज के ओवर में 26 रन जुटाये.

यूसुफ की इस पारी से केकेआर ने चेन्नई सुपरकिंग्स को दूसरे स्थान से हटा दिया. वह पंजाब के लिये खतरा बन सकते हैं. धीमे गेंदबाज इस मैच में अहम भूमिका अदा कर सकते हैं और केकेआर की टीम में नारायण शामिल हैं जो पर्पल कैपधरी हैं. उनके पास स्पिनर शकिबुल भी मौजूद हैं. इस लेग स्पिनर ने इस आईपीएल में मैक्सवेल को छह बार आउट किया और शकिबुल फिर इस आस्ट्रेलिया की कमजोरी का फायदा उठाना चाहेंगे.

पंजाब के पास करणवीर सिंह और अक्षर पटेल के रूप में अच्छा स्पिन आक्रमण मौजूद हैं, जिन्होंने चेन्नई के खिलाफ शानदार गेंदबाजी की. यह देखना दिलचस्प होगा कि वे इन दोनों स्पिनरों को फाइनल में खिलाते हैं या नहीं. मिशेल जानसन तेज गेंदबाजी विभाग की अगुवाई करेंगे.

Source ¦¦ agency