बेंगलुरू। आइपीएल-7 के फाइनल मुकाबले में कोलकाता नाइट राइडर्स की खिताबी जीत में हीरो की भूमिका निभाने वाले मनीष पांडे का कहना है कि वो उन्हें दबाव की स्थिति में बल्लेबाजी करना बेहद पसंद है और रविवार को किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ भी उन्होंने कुछ ऐसा ही किया। मनीष पांडे ने 200 के लक्ष्य का पीछा करते हुए केकेआर की तरफ से 50 गेंदों में 94 रनों की धुआंधार पारी खेली।

मनीष पांडे ने कहा, 'मैं उम्मीद नहीं छोड़ता और मैं अहम मैच में बल्लेबाजी करना पसंद करता हूं। हमने पहले ओवर में दस रन बना लिए थे और उसी समय मैंने सोच लिया था कि अगर हम ऐसा ही खेलते रहे तो हम 200 का लक्ष्य हासिल कर लेंगे।' मनीष के मुताबिक उनकी पास सभी बड़े घरेलू खिताबों की जीत मौजूद है, बस आइपीएल की कमी थी जो आखिर पूरी हो गई। मनीष ने कहा, 'मेरे पास रणजी ट्रॉफी, इरानी ट्रॉफी की जीत मौजूद है और अब आइपीएल की जीत ने इसे और शानदार बना दिया है।'

मनीष पांडे ने अपनी पारी के दौरान शानदार खेल दिखाया और उनकी बल्लेबाजी में मनोबल के दम पर निरंतरता साफ नजर आई। पांडे ने लगातार शॉट जड़े। एक समय जब केकेआर अहम समय पर लगातार विकेट खोता जा रहा था, उस दौरान भी मनीष थमे नहीं और हर विकेट के बाद अगली गेंद एक बड़े शॉट के लिए खेल देते थे जिससे पंजाब पर लगातार दबाव बना रहा और उनके आउट होने के बावजूद अंत में ये काम भी आया।

Source ¦¦ agency