Sunday, July 21, 2024
Homeधर्मशुक्र का कर्क राशि में गोचर: 7 जुलाई से इन 5 राशियों...

शुक्र का कर्क राशि में गोचर: 7 जुलाई से इन 5 राशियों के होगें राजसी ठाठ तो एक राशि की बढ़ेगी टेंशन, क्‍या है ज्योतिष उपाय

शुक्र का कर्क राशि में गोचर: सुख और सुविधाओं के कारक ग्रह शुक्र का राशि परिवर्तन 7 जुलाई को होने वाला है. आज हम आपको शुक्र का कर्क राशि में गोचर के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान करेंगे। शुक्र का गोचर कर्क राशि में रविवार को प्रात: 04:39 पर होगा. शुक्र ग्रह कर्क राशि में 7 जुलाई से 31 जुलाई को दोपहर 02:40 तक रहेगा. शुक्र के राशि परिवर्तन से 5 राशि के जातकों की लाइफ में बदलाव हो सकते हैं. बता दें कुछ राशियों को शुक्र के गोचर से बहुत अधिक लाभ होगा तो, वहीं कुछ राशि वालों को इस अवधि बहुत ही सावधानी से आगे बढ़ने की आवश्यकता होगी. आइए जानते हैं शुक्र गोचर के शुभ व अशुभ प्रभावों के बारे में.

शुक्र का कर्क राशि में गोचर का समय व तिथि

आकर्षण, ऐश्वर्य, सौभाग्य, धन, प्रेम और वैभव के कारक ग्रह शुक्र 07 जुलाई, 2024 की सुबह 4 बजकर 15 मिनट पर कर्क राशि में प्रवेश कर जाएंगे। बता दें कि शुक्र अस्त अवस्था में कर्क राशि में प्रवेश करेंगे और 11 जुलाई को पुन: इसी राशि में उदित हो जाएंगे तथा 19 जुलाई, 2024 को सूर्य के स्वामित्व वाली राशि सिंह राशि में गोचर करेंगे। शुक्र और चंद्रमा आपस में शत्रुता का भाव रखते हैं इसलिए कर्क राशि में शुक्र का गोचर बहुत अधिक अनुकूल प्रतीत नहीं हो रहा है।

शुक्र का कर्क राशि में गोचर: इन राशियों पर पड़ेगा सकारात्मक प्रभाव

मेष राशि

मेष राशि के जातकों के लिए शुक्र दूसरे और सातवें भाव के स्वामी हैं और शुक्र का कर्क राशि में गोचर आपके चौथे भाव में गोचर करेंगे। इसके परिणामस्वरूप, आपके घर व परिवार में सुख-शांति का माहौल रहेगा। आप अपने परिवार की सुख सुविधाओं को बढ़ाने के बारे में विचार करेंगे। घर परिवार के लोगों के साथ अच्छा सामंजस्य रहेगा और आप उनके साथ अच्छा समय व्यतीत करेंगे। इसके अलावा, आप अभिनय, नाटक, नृत्य, आदि सीखने के लिए आगे बढ़ सकते हैं और ऐसे विषयों में उच्च शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं। इस अवधि पारिवारिक सदस्यों का आपके साथ समर्थन रहेगा और इससे आप हर काम में उन्नति करेंगे। इस गोचर काल के दौरान आपको कुछ अच्छी उपलब्धि या धन लाभ की प्राप्ति हो सकती है। इसके अलावा, कार्यक्षेत्र में आपको पदोन्नति भी प्राप्त हो सकती है।

मिथुन राशि

मिथुन राशि के लिए शुक्र आपके पांचवें और बारहवें भाव के स्वामी हैं और शुक्र का कर्क राशि में गोचर आपके दूसरे भाव में होगा। शुक्र का कर्क राशि में गोचर आपको उत्तम व्यंजन चखाएगा। आप बढ़िया से बढ़िया भोजन और पकवान खाना पसंद करेंगे और उसका आनंद लेंगे। पारिवारिक जीवन में खुशियां रहेंगी। घर में कोई फंक्शन हो सकता है या किसी का विवाह समारोह हो सकता है जिसमें अतिथियों के आगमन से घर में चहल-पहल रहेगी। आपको अच्छी आर्थिक लाभ की खबरें सुनने को मिलेंगी और आपको धन लाभ होगा। पैतृक व्यवसाय में लाभ होने के योग बनेंगे। यदि आप कोई व्यापार साझेदारी में करते हैं तो आपके व्यवसायिक साझेदार से संबंध अच्छे रहेंगे और दोनों मिलकर अपने व्यापार को आगे बढ़ा पाएंगे और उसमें उन्नति प्राप्त करेंगे। सामाजिक स्तर पर परिवार का स्तर ऊंचा होगा।

कर्क राशि

शुक्र का कर्क राशि में गोचर कर्क राशि के जातकों के लिए पहले भाव में होगा। शुक्र कर्क राशि के जातकों के लिए शुक्र चौथे और ग्यारहवें भाव के स्वामी हैं। इसके परिणामस्वरूप, आप अपनी देखभाल पर अधिक ध्यान देंगे और खुद के व्यक्तित्व को निखारने पर विचार करेंगे। शुक्र का कर्क राशि में गोचर कार्यक्षेत्र में भी अच्छे परिणाम देगा और कार्यक्षेत्र में आपकी बात को कोई टाल नहीं पाएगा। इससे नौकरी में आपकी स्थिति अच्छी रहेगी और वरिष्ठ अधिकारियों से आपके संबंध मधुर बनेंगे। यदि आप सौंदर्य उत्पाद और महिला प्रसाधनों, इत्र एवं महिलाओं से संबंधित कोई व्यापार करते हैं तो इस दौरान उस व्यापार में अच्छी उन्नति और प्रगति देखने को मिलेगी। आपको अच्छे धन लाभ के योग बनेंगे।

कन्या राशि

कन्या राशि के जातकों के लिए शुक्र दूसरे भाव और भाग्य के नौवें भाव के स्वामी हैं। शुक्र का कर्क राशि में गोचर आपके ग्यारहवें भाव में होगा। शुक्र का गोचर आपके लिए कई सारे नए अवसर लेकर आएगा। यह अवधि आपको आर्थिक जीवन में भी स्थिरता प्राप्त होगी और आपको अच्छा ख़ासा धन लाभ होगा। आप अपने व्यापार को विस्तार देने की योजनाएं बना सकते हैं और बहुत हद तक उसमें कामयाब भी हो सकते हैं। नौकरी करने वाले लोगों को अपने वरिष्ठ अधिकारियों का पूरा सानिध्य और समर्थन मिलेगा और इससे आपकी उन्नति होगी। बड़े भाई बहनों का पूरा सहयोग मिलेगा और आप अपने भाई-बहनों और दोस्तों के साथ अच्छा समय बिताएंगे। इस तरह आपका सामाजिक दायरा बढ़ेगा। इस दौरान आप अपने दोस्त की सलाह मानकर काम करेंगे तो आपको लाभ होगा। अपने धन का कुछ हिस्सा बचत के रूप में रखने से आपको भविष्य में आर्थिक चुनौतियों से लड़ने का मौका मिलेगा।

तुला राशि

शुक्र का कर्क राशि में गोचर तुला राशि के दसवें भाव में होने जा रहा है। शुक्र आपकी राशि का स्वामी भी हैं, ऐसे में शुक्र का दसवें भाव में गोचर कार्य क्षेत्र के लिए सकारात्मक परिणाम लेकर आएगा। लेकिन आप कार्य क्षेत्र की राजनीति से बचकर रहेंगे तो बेहतर होगा और खुद किसी राजनीति का हिस्सा ना बनें, नहीं तो आपके संबंध आपके कार्यक्षेत्र में साथ कार्य करने वाले लोगों से बिगड़ सकते हैं और उससे आपको नौकरी में समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

इस अवधि आप अपने सहकर्मियों से जलन की भावना रख सकते हैं और आपको अफने कार्यस्थल पर थोड़ी परेशानी हो सकती है। वरिष्ठ अधिकारियों से भी आपकी कहासुनी हो सकती है इसलिए उनसे अच्छे संबंध बनाए रखने की कोशिश करें। आपकी पदोन्नति की बात अवश्य चल सकती है और यदि आप अच्छा काम करेंगे तो निश्चित ही आपको प्रमोशन जरूर मिल सकता है। यदि आप व्यापार करते हैं तो आपको थोड़ी सावधानी के साथ आगे बढ़ना होगा।

शुक्र का कर्क राशि में गोचर: इस एक राशि पर पड़ेगा नकारात्मक प्रभाव

धनु राशि

धनु राशि के जातकों के लिए शुक्र का कर्क राशि में गोचर आपके आठवें भाव में होगा। इसके परिणामस्वरूप, चोरी-छिपे खर्च करने की आदत से बचें और अपनी सुख-सुविधाओं पर छिपकर खर्च करना आपको बाद में परेशानी दे सकता है। इस अवधि आपको अपने उन दोस्तों से बचकर रहें जो आपके दुश्मनों का काम करते हैं। पारिवारिक जीवन में थोड़ा तनाव रहेगा और ससुराल पक्ष की ओर आपका झुकाव अधिक हो सकता है। नौकरी करने वाले लोगों को चुप रह कर अपना काम करते रहना चाहिए और यदि आप कोई व्यवसाय करते हैं तो इस दौरान व्यवसायिक साझेदार से संबंध ना बिगड़ें, इसका आपको ध्यान रखना होगा, नहीं तो व्यवसाय में समस्या बढ़ सकती है। आर्थिक जीवन की बात करें तो इश अवधि धन का निवेश करना खतरनाक हो सकता है, इसलिए इससे बचने का प्रयास करें। इस अवधि के दौरान किसी को भी उधार पैसा देने से बचें।

शुक्र का कर्क राशि में गोचर: आसान ज्योतिष उपाय

  • शुक्रवार को व्रत रखें और चावल, चीनी आदि सफेद चीजें दान करें।
  • शुक्रवार को देवी लक्ष्मी या देवी दुर्गा की पूजा करें और लाल फूल चढ़ाएं।
  • हर सुबह महालक्ष्मी अष्टकम का पाठ करें।
  • अपने कार्यालय या घर में महालक्ष्मी यंत्र की स्थापना करें और उसकी पूजा करें।
  • अधिक से अधिक सफेद और गुलाबी कपड़े पहनने की कोशिश करें और अच्छी स्वच्छता बनाए रखें।
  • शुक्र के मंत्र “ऊं द्रां द्रीं द्रौं सः शुक्राय नमः” का जाप करें।
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments