Tuesday, December 6, 2022
Homeदुनिया न्यूज़हसीना सरकार अल्पसंख्यकों के अधिकारों की रक्षा के लिए कटिबद्ध: बांग्लादेश मंत्री

हसीना सरकार अल्पसंख्यकों के अधिकारों की रक्षा के लिए कटिबद्ध: बांग्लादेश मंत्री

बांग्लादेश | बांग्लादेश के सूचना मंत्री मुहम्मद हसन महमूद ने शनिवार को कहा कि उनके देश में शेख हसीना के नेतृत्व वाली अवामी लीग सरकार न केवल हिंदुओं बल्कि सभी धार्मिक अल्पसंख्यकों के अधिकारों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए यह बात कही। वह बांग्लादेश फिल्म महोत्सव के उद्घाटन समारोह में शामिल होने के लिए कोलकाता में थे। 2021 में दुर्गा पूजा के दौरान बांग्लादेश में सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार इस साल त्योहार के दौरान ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति से बचने के लिए विशेष रूप से सतर्क रही।

महमूद ने कहा, इस साल प्रशासन और पूजा आयोजकों की संयुक्त पहल के बाद वहां शांतिपूर्वक दुर्गा पूजा मनाई गई। यह साबित करता है कि वर्तमान बांग्लादेश सरकार वहां के धार्मिक अल्पसंख्यकों के अधिकारों की रक्षा के लिए कैसे ²ढ़ है। उन्होंने यह भी कहा कि इस साल बांग्लादेश में 33,000 से अधिक सामुदायिक पूजा हुई, जो पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 700 अधिक है। यह साबित करता है कि बांग्लादेश धार्मिक अल्पसंख्यकों के लिए सुरक्षित है। हमारी सरकार पिछले साल त्योहार के दिनों में तनाव को ध्यान में रखते हुए इस बार विशेष रूप से सतर्क थी।

उन्होंने बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी और उसके सहयोगियों पर कट्टरपंथी समूहों का समर्थन करके तनाव बढ़ाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, वह मुख्य रूप से भारत विरोधी और हिंदू विरोधी भावनाओं पर फलते-फूलते हैं। हालांकि, उनका पदार्फाश हो गया है और बांग्लादेश में हमारी सरकार ऐसे मुद्दों पर तनाव पैदा करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के लिए ²ढ़ है।

भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता नदी जल समझौते पर बोलते हुए, जिसे पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा उठाए गए कुछ आपत्तियों के कारण अभी तक अंतिम रूप नहीं दिया गया है, महमूद ने कहा, भारत-बांग्लादेश संबंध केवल इस समझौते पर निर्भर नहीं है, निश्चित रूप से यह एक महत्वपूर्ण कारक है। समझौते के अनुसार, भारत और बांग्लादेश दोनों के लोगों को तीस्ता के पानी का उपयोग करने की अनुमति दी जानी चाहिए।

साथ ही उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि राजनयिक संबंधों को मजबूत करने के लिए दोनों देशों के बीच लोगों से लोगों के बीच संबंधों पर ध्यान दिया जाना चाहिए।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

Join Our Whatsapp Group