Friday, October 7, 2022
Homeमध्यप्रदेशटीचर और छात्र को मुस्लिम बनाने के विवाद में घिरा बिला बांग...

टीचर और छात्र को मुस्लिम बनाने के विवाद में घिरा बिला बांग इंटरनेशनल स्कूल

भोपाल। राजधानी के कथित रूप से बड़े स्कूल माने जाने वाले बिला बांग इंटरनेशनल स्कूल में एक टीचर और उनके बेटे के धर्मांतरण को लेकर स्कूल प्रबंधन विवादों में घिर गया है। स्कूल के आईटी डिपार्टमेंट के हेड मोहम्मद सलाउद्दीन को लेकर एक व्यक्ति ने भोपाल पुलिस को करीब 9 महीने पहले शिकायत की थी। साढ़े तीन साल की मासूम के साथ स्कूल बस में हुई ज्यादती और बिला बांग प्रबंधन के चार लोगों के खिलाफ हुई एफ आई आर के बाद इस मामले ने भी तूल पकड़ लिया है। पिछले 10 महीने से धर्मांतरण की इस गंभीर शिकायत पर हाथ पर हाथ रखे बैठी भोपाल पुलिस ने नए सिरे से मामले की जांच शुरू कर दी है। पुलिस जांच में एक चौंकाने वाली बात यह भी सामने आई है कि स्कूल के डायरेक्टर फैसल अली की पत्नी भी पहले हिंदू थी जिन्होंने उससे निकाह के बाद धर्म परिवर्तन कर लिया था। फैसल अली स्कूल के मालिक नज़म जमाल का साला है।

मूल रूप से होशंगाबाद के रहने वाले निर्मल सिंपी (नामदेव) ने भोपाल के रातीबड़ थाने से लेकर मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री को भी इस संबंध में शिकायत की है। शिकायत में लिखा है कि 29 अप्रैल 2003 को उनकी शादी सहपाठी सबा शाहिद के साथ हिंदू रीति रिवाज से हुई थी। शादी के समय ही सबा ने शिक्षा से हिंदू धर्म अपनाकर अपना नाम श्रीमती सोनिया शिंपी रख लिया था। उनके सभी दस्तावेजों में भी सोनिया सिंपी नाम दर्ज है। शादी के बाद उनका एक बेटा हुआ। वर्ष 2015 में उनकी पत्नी सोनिया ने बिला बांग स्कूल में टीचर की नौकरी ज्वाइन की और इसी स्कूल में उनका 12 वर्षीय बेटा भी पढ़ने लगा। इसी दौरान स्कूल के आईटी हेड मोहम्मद सलाउद्दीन के संपर्क में उनकी पत्नी आई और इसके बाद उसके व्यवहार में परिवर्तन आने लगा वह परिवार से अलग होने लगी बाद में ड्रग भी लेने लगी। निर्मल नहीं क्या सलाउद्दीन से इस संबंध में बात की और पत्नी से नज़दीकियों का विरोध किया तो 6 जनवरी 2019 को निर्मल के ऊपर हमला हुआ और इसकी शिकायत भोपाल की कोलार थाने में हुई। बाद में निर्मल ने जब स्कूल के सीईओ फैजल खान से बात की तो उन्होंने कोई भी मदद करने से इंकार कर दिया उस दौरान सलाहुद्दीन उस कैबिन के पास ही खड़ा रहा। फैसल खान ने निर्मल को सलाउद्दीन से बात करने की सलाह दी। जब स्कूल में निर्मल ने सलाउद्दीन से बात की तो उसने निर्मल से इस्लाम ग्रहण करने की बात की। सलाउद्दीन ने कहा कि जब तुम्हारी पत्नी तुम्हारे लिए मुसलमान से हिंदू हो सकती है तो तुम उसके लिए मुस्लिम क्यों नहीं हो सकते? निर्मल ने शिकायत की है कि जब लंबे समय तक सलाउद्दीन और फैसल खान के दबाव में उन्हें पत्नी और बेटे से मिलने नहीं दिया गया तब अदालत ने उन्हें महीने में दो बार बेटे से मिलने की अनुमति दी। बिला बांग स्कूल प्रबंधन ने उनके बेटे के बारे में हमेशा गलत जानकारी दी जब वह अवधपुरी से बस में आता था तब स्कूल से है जानकारी दी गई कि वहां सहयाद्री परिसर से बस में बैठता है। इसकी शिकायत करने पर उसकी बस का नंबर भी बदल दिया गया। उनके 12 वर्षीय बेटे के दिमाग में भी हिंदू धर्म के खिलाफ गलत बातें डाली गई। निर्मल ने शिकायत में आरोप लगाया है कि सलाउद्दीन और स्कूल प्रबंधन उनके बेटे को धर्म परिवर्तन करके मुस्लिम बनाना चाहता है। उनकी द्वारा की गई शिकायतों के बाद एक बार फिर निर्मल पर हमला हुआ। निर्मल ने जब मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस संबंध में शिकायतें की तो उनके बेटे का एडमिशन दूसरे स्कूल में करा दिया गया। हालांकि इस दूसरे स्कूल में भी अदालत के आदेश के बाद भी प्रिंसिपल ने सलाउद्दीन के दबाव में उन्हें बेटे से नहीं मिलने दिया ना ही उसके बारे में कोई जानकारी दी।

करीब एक सप्ताह पहले जब बिला बांग स्कूल बस में एक बच्ची के साथ हुई या दीदी की घटना उजागर हुई और स्कूल प्रबंधन ने पुलिस और अभिभावक को गुमराह किया तो उनके खिलाफ प्रकरण दर्ज हो गया। भोपाल पुलिस कमिश्नर मकरंद देउस्कर 1 दिन पहले कहा था कि प्रारंभिक जांच में यह बात सामने आई है कि स्कूल बस के डीवीआर की चिप निकाल कर गायब की गई है। निर्मल ने भोपाल पुलिस से इस मामले में आईटी हेड सलाउद्दीन की भूमिका की जांच करने की भी मांग की है। वहीं उन्होंने नए सिरे से पुलिस को शिकायत की है कि उनके बेटे के धर्मांतरण की जो कोशिश की गई है। उसमें स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई की जाए। उन्होंने कहा कि स्कूल प्रबंधन के खिलाफ पुलिस पिछले 9 महीने से दबाव में कार्रवाई नहीं कर रही थी क्योंकि यहां शहर के बड़े लोगों के बच्चे पढ़ते थे लेकिन अब जब स्कूल की कारगुजारी है उजागर हो गई हैं तब पुलिस को उनके मामले में भी कार्यवाही करनी चाहिए।

पुलिस कमिश्नर मकरंद देउसकर ने कहा कि बच्ची के साथ हुई घटना वाली बस की डीवीआर की चिप गायब है इसकी जांच की जा रही है। इसमें जिस की भी भूमिका होगी उस पर कार्रवाई की जाएगी। निर्मल सिंपी की शिकायत भी जांच में है।

वही रातीबड़ थाना प्रभारी सुदेश तिवारी ने कहा कि निर्मल सिंपी द्वारा की गई शिकायत पर जांच जारी है और उसमें जो भी तथ्य आएंगे उसके आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments