Saturday, November 26, 2022
Homeमध्यप्रदेशमध्‍य प्रदेश में बाल संरक्षण गृह में अब चिकन और अंडा नहीं...

मध्‍य प्रदेश में बाल संरक्षण गृह में अब चिकन और अंडा नहीं परोसा जाएगा

भोपाल ।  बाल संरक्षण गृह में अब बच्चों को अंडा और चिकन नहीं परोसा जाएगा। महिला एवं बाल विकास विभाग ने आहार सूची से अंडा और चिकन हटा दिया है। बच्चे के बीमार होने, वजन बढ़ाने या अन्य स्वास्थ्य कारण पर ही डाक्टर की सलाह पर अंडा या चिकन अतिरिक्त आहार के रूप में दिया जा सकेगा। बाल संरक्षण गृह में अंडा और चिकन ख‍िलाए जाने के विवाद के बाद महिला एवं बाल विकास विभाग ने किशोर न्याय (बाल देखरेख और संरक्षण) नियम में संशोधन किया है। इसके पहले महिला एवं बाल विकास विभाग ने अगस्त 2022 को राजपत्र जारी कर प्रदेश के बाल संरक्षण गृहों में पोषण आहार मानक निर्धारित किए थे। जिसके अनुसार सप्ताह में एक बार चिकन अथवा बालक की खाने की आदत के अनुसार सप्ताह में चार दिन अंडा दिया जाना था। इसी तरह आहार सूची में गुड़ और मूंगफली या पनीर (केवल शाकाहारी को) सप्ताह में एक बार प्रत्येक को 60 ग्राम (पनीर 100) देना था। इस सूची से केवल शाकाहार शब्द हटाया है। इसके अलावा गैर शाकाहारी दिवसों पर शाकाहारी बालकों को या तो प्रति व्यक्ति 60 ग्राम गुड़ और 60 ग्राम मूंगफली लड्डू के आकार में या कोई अन्य मीठा व्यंजन, 100 ग्राम पनीर देने का प्रविधान था, विभाग ने गैर शाकाहारी दिवस शब्द को आपत्तिजनक मानते हुए हटा दिया है।

त्यौहार एवं राष्ट्रीय उत्सव पर विशेष भोजन बनेगा

बालकों को अवकाश, त्यौहार, खेलकूद और सांस्कृतिक दिवस, राष्ट्रीय उत्सव समारोह एवं बाल संरक्षण गृह द्वारा अधिसूचित अन्य अवसरों पर विशेष भोजन कराया जाएगा। साथ ही शिशुओं और बीमार बालकों को उनकी आहारीय अपेक्षा पर डाक्टर की सलाह पर विशेष आहार दिया जाएगा।

बालिकाओं में आयरन की कमी का पता लगाने होगा स्वास्थ्य मूल्यांकन

किशोरी बालिकाओं में आयरन (लौह) की कमी का पता लगाने के लिए स्वास्थ्य परीक्षण किया जाएगा। आवश्यक होने पर आहार योजना तथा दवाओं को आहार विशेषज्ञ या नियुक्त डाक्टर द्वारा निर्धारित किया जाएगा।

दिया जाएगा व्यावसायिक प्रशिक्षण, मनोरंजन की सुविधा भी होगी

बाल संरक्षण गृह में बालकों को रोजगार उपलब्ध कराने के उद्धेश्य से व्यावसायिक प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण में व्यावसायिक चिकित्सा, कौशल और अभिरूचि आधारित प्रशिक्षण शामिल होगा। साथ ही बाल संरक्षण गृहों में बालकों के मनोरंजन के साधन उपलब्ध कराए जाएंगे। मनोरंजन सुविधाओं में इंडोर खेल और आउटडोर खेल, योग, ध्यान लगाना, संगीत और टेलीविजन उपलब्ध कराया जाएगा। पिकनिक के लिए बाहर भी ले जाया जाएगा।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

Join Our Whatsapp Group