कॉन्डम के यूज और इसकी जरूरत के बारे में हम सभी जानते हैं। जहां तक इनसे जुड़े भ्रम की बात है तो यूथ को फालतू बातों से कोई लेना-देना नहीं है। सेक्स प्यार का ही एक रूप है और इसे इंट्रस्टिंग बनाने के लिए कॉन्डम भी अलग-अलग तरह के हैं। तो आपकी 11 रंगीन रातों के लिए 11 अलग-अलग तरह के कॉन्डम्स की डिटेल यहां है...

डॉर्क कॉन्डम नॉन टॉक्सिक होते हैं। इनमें एक अलग तरह का ग्लो या चमक होती है। तीन लेयर वाले डार्क कॉन्डम प्लेजर को कई गुना बढ़ाकर प्रेग्नेंसी का रिस्क भी कम करते हैं। इस कॉन्डम की दो लेटेक्स लेयर के बीच तीसरी लेयर पिग्मेंट की होती है ताकि ये कॉन्डम रेग्युलर से अधिक ग्लो करें।
टेक्सचर्ड कॉन्डम्स को स्टड कॉन्डम के नाम से भी जाना जाता है। इन कॉन्डम्स की अपर लेयर पर छोटे-छोटे स्टड होते हैं, जो इंटरकोर्स के दौरान रबिंग को अधिक प्लेजरेबल बनाते हैं।
वॉर्मिंग कॉन्डम नॉर्मल कॉन्डम्स की तुलना में कहीं अधिक पतली लेटेक्स लेयर से बने होते हैं। इससे इंटरकोर्स के दौरान ये सेंसेशन से हीट होते हैं। इनमें लगा लूब्रिकेंट नैचरल बॉडी मॉइश्चर से ऐक्टिवेट होता है और गर्माहट को बढ़ाता है। इसे दोनों पार्टनर इंजॉय कर पाते हैं।
ये कॉन्डम स्टैंडर्ड लेयर लेटेक्स से बने होते हैं और नॉर्मल कॉन्डम्स की तुलना में कुछ बड़े होते हैं। इन कॉन्डम्स में आगे की तरफ एक फिंगर टिप जितनी एक्स्ट्रा लेयर होती है। इस कारण यह पीनिस टिप पर अधिक फ्रैक्शन पैदा करता है और आपके ऐक्ट में एनर्जी भरता है।
कॉन्डम्स लगभग हर कलर में उपलब्ध हैं। आप अपनी पसंद के रंग के सात प्ले कर सकते हैं। साथ ही आप ड्यूल और ट्राई कलर्स में भी कॉन्डम ले सकते हैं। हॉलिडेज और हैलोविन के दौरान ज्यादातर लोग ब्लैक और ऑरेंज कलर के कॉन्डम खरीदना पसंद करते हैं।
सेंसिस कॉन्डम बहुत पतली लेयर से बने होते हैं। इनमें माइक्रो डॉट्स और रिब्ड होते हैं। इन कॉन्डम्स का फिट बहुत पर्फेक्ट होता है। इन कॉन्डम्स में पिट फॉल से बचने के लिए बैंड ऐड दिया जाता है।
इन कॉन्डम्स के बारे में हम सभी जानते हैं। अलग-अलग फ्लेवर वाले ये कॉन्डम नॉर्मल लेटेक्स लेयर से बने होते हैं और आप अपनी पसंद के हिसाब से अपना फ्लेवर चुन सकते हैं।
इस कॉन्डम में लूब्रिकेंट्स की जगह पॉउडर का इस्तेमाल किया जाता है, जो स्वीट मिंट टेस्ट और फ्रैग्रेंस देता है। इन कॉन्डम्स का टेक्चर ग्रीन होता है और ये शुगर फ्री मिंट फॉर्म्यूला के साथ तैयार किए जाते हैं।
टिंगलिंग प्लेजर कॉन्डम यूज करते वक्त आपको एक अलग तरह की झंझनाहट अपने प्राइवेट पार्ट में महसूस होगी, इस अनुभव को दोनों पार्टनर फील कर सकेंगे। यह झंझनाहट इंटरकोर्स के दौरान आपकी परफॉर्मेंस को बढ़ाने का काम करती है।
जी हां, मार्केट में ऐसे कॉन्डम्स भी हैं, जिन्हें खाया जा सकता है। ये कॉन्डम्स अलग-अलग फ्लेवर्स में आते हैं और एक साथ 4 का पैक ही आता है। इस तरह के कॉन्डम केवल कुछ नया एक्सपीरियंस करने के लिए हैं, ये आपको प्रेग्नेंसी और एसटीडी से किसी तरह की सुरक्षा नहीं देते हैं।