नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश में अगले साल विधान सभा (UP Assembly Election 2022) होने हैं जिसे लेकर सभी पार्टियां जमीन तैयार करने में जुटी हुई हैं. ऐसे में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने अयोध्या जाकर रामलला के दर्शन करने का फैसला किया है. वे 26 अक्टूबर को भगवान राम की शरण में जाएंगे. चुनाव से पहले उनका ये दौरा काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है.

पहले सिसोदिया और सिंह गए थे अयोध्या
इससे पहले, दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया और आम पार्टी के सांसद संजय सिंह श्रीराम लला के दर्शन करने अयोध्या पहुंचे थे. इस यात्रा से लौटने के बाद ही उन्होंने 10 अक्टूबर को सुल्तानपुर जिले से 'फ्री बिजली की बात जनता के साथ' अभियान की शुरुआत की थी. आप की तरफ से उत्तर प्रदेश प्रभारी संजय सिंह ने इस मुद्दे पर जनता की राय जानी और 300 यूनिट फ्री बिजली, किसानों को मुफ्त बिजली सहित बकाया बिल माफ करने की अरविंद केजरीवाल की गारंटी वाला कार्ड नागरिकों को दिया था. हालांकि बीते मंगलवार यानी 19 अक्‍टूबर को गौतमबुद्ध नगर में भी इस अभियान की शुरुआत कर दी गई है.

बिना किसी गठबंधन के चुनाव लड़ेगी AAP
अरविंद केजरीवाल की अगुवाई में पार्टी सभी 403 विधान सभा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी. पार्टी ने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि वह चुनाव में किसी तरह का गठबंधन भी नहीं करेगी. इस बार अरविंद केजरीवाल ने उत्तर प्रदेश में पार्टी की जिम्मेदारी सांसद संजय सिंह के हाथों में दी हुई है. जो इसे बखूबी निभाते हुए नजर आ रहे हैं. वे जमीन पर उतर कर लोगों से खुद बातचीत कर रहे हैं. हाल ही में लखीमपुर की घटना को लेकर संजय सिंह काफी एक्टिव नजर आए थे. कुल मिलाकर कहें तो अगले साल की शुरुआत में होने वाले विधान सभा चुनाव जीतने के लिए आम आदमी पार्टी पूरी कोशिश करती नजर आ रही है.