World AIDS Day 2021: हर साल दुनियाभर में एक दिसंबर को विश्व एड्स दिवस मनाया जाता है, ताकि लोगों को इस लाइलाज बीमारी के बारे में जागरुक किया जा सके। एड्स ह्यूमन इम्यूनो डेफिशियेंसी (HIV) वायरस के संक्रमण की वजह से होता है। साल 1995 में अमेरिका के राष्ट्रपति ने विश्व एड्स दिवस के लिए एक आधिकारिक घोषणा की थी, जिसके बाद से दुनिया भर में यह दिन जागरुकता पैदा करने के लिए मनाया जाने लगा।

एड्स क्या है?

जब एचआईवी का इलाज नहीं किया जाता है, तो इससे एड्स हो सकता है। एड्स एचआईवी का तीसरा और सबसे उन्नत चरण है। एक व्यक्ति जिसका एचआईवी का इलाज नहीं किया गया है, उसमें एड्स विकसित होने की संभावना बढ़ जाती है। एड्स होने से पहले एक व्यक्ति लगभग 10 से 15 साल तक एचआईवी वायरस के साथ रह सकता है।

एड्स के लक्षण

-रात में सोते वक्त पसीना आना

- तनाव

- याददाश्त में कमी

- अचानक वज़न कम होना

- बार-बार बुखार आना

- निमोनिया

- त्वचा, नाक, पलकें या मुंह पर धब्बे

- बिना किसी कारण के थकान महसूस होना।