दलों के लिए दागी अच्छे हैं:57% विधायकों पर आपराधिक केस दर्ज, 67% करोड़पति, औसत संपत्ति 3 करोड़
 

बिहार विधानसभा के 243 सदस्यों में 240 वर्तमान विधायकों का रिपोर्ट कार्ड
राजद के 41%, कांग्रेस के 40%, जदयू के 37% और भाजपा के 35% माननीय दागी

बिहार विधानसभा के 240 वर्तमान (243 में से 3 रिक्त) विधायकों में से 136 यानी 57% विधायक दागी हैं। 94 पर गंभीर आपराधिक केस हैं। 160 यानी 67% विधायक करोड़पति हैं। बिहार इलेक्शन वॉच और एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म (एडीआर) ने वर्तमान विधायकों द्वारा घोषित वित्तीय, आपराधिक, शिक्षा, लिंग एवं अन्य विवरणों पर आधारित रिपोर्ट में इसका जिक्र किया है।

रिपोर्ट 2015 के विस चुनाव और उसके बाद उपचुनाव में दिए गए शपथ पत्र पर आधारित है। 11 विधायकों ने अपने ऊपर हत्या से जुड़े केस घोषित किए हैं। 30 पर हत्या का प्रयास का केस है। 5 विधायकों ने महिला अत्याचार से संबंधित मामले घोषित किए हैं। इनमें एक पर बलात्कार का केस है।

9 विधायक सिर्फ साक्षर
शैक्षिक योग्यता : 94 यानी 39% विधायकों ने शैक्षिक योग्यता 5वीं व 12वीं के बीच घोषित की है, जबकि 134 यानी 56% विधायकों ने शैक्षिक योग्यता स्नातक और इससे अधिक घोषित की है। 9 विधायकों ने शैक्षिक योग्यता साक्षर घोषित की है।

औसत संपत्ति: वर्तमान विधायकों की औसत संपत्ति 3.06 करोड़ है। दलवार विधायकों की औसत संपत्ति की बात करें तो राजद के विधायकों की औसत संपत्ति 3.02 करोड़, जदयू के 2.79 करोड़, भाजपा के 2.38 करोड़ और कांग्रेस के 4.36 करोड़ है।

विधायकों की आयु : 128 यानी 53% विधायकों ने उम्र 25 से 50 वर्ष के बीच जबकि 112 यानी 47% ने 51 से 80 के बीच घोषित की है।

अधिकतम वार्षिक आय सुनील की: बेनीपुर के जदयू विधायक सुनील चौधरी ने वर्ष 2014-15 में स्वयं और पत्नी के नाम से 5,32,19,753 रुपए की आय दिखाई है। वहीं स्वयं के नाम से 4,92,55,237 रुपए की आय दिखाई है।

18 विधायक 50 लाख से अधिक के कर्जदार, ददन यादव टॉप पर: 18 विधायकों ने अपनी देनदारी 50 लाख और इससे अधिक घोषित की है। सबसे ज्यादा देनदारी घोषित करने वाले तीन विधायकों में डुमरांव के जदयू विधायक ददन यादव के पास 11,65,45,500 व मोकामा के निर्दलीय विधायक अनंत सिंह के पास 40201525 रुपए व भागलपुर के कांग्रेस विधायक अजीत शर्मा के पास 313,04,388 की देनदारी है।