नई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस के नए मामले हर दिन नया रिकॉर्ड बना रहे हैं. दिल्ली उन शहरों की सूची में शीर्ष पर पहुंच गई है, जहां कोरोना के कारण हालात खराब है. गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली के हालात को लेकर उपराज्यपाल और सीएम के साथ इमरजेंसी बैठक की थी. अब कोरोना से निपटने के लिए गृह मंत्रालय का एक्शन प्लान सामने आया है.दिल्ली में स्वास्थ्यकर्मियों की कमी को देखते हुए गृह मंत्रालय ने अर्धसैनिक बलों से 75 डॉक्टर और 250 पैरामेडिकल स्टाफ लाने का निर्णय किया है. इन सभी को एयरलिफ्ट कर दिल्ली लाए जाने की योजना है. गृह मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक एक से दो दिन के अंदर अर्धसैनिक बलों के 75 डॉक्टर और 250 से ज्यादा पैरामेडिकल स्टाफ को एयरलिफ्ट कर लिया जाएगा.

पूरी होगी पैरामेडिकल स्टाफ की कमी
सूत्रों के मुताबिक इससे दिल्ली में डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ की कमी पूरी होगी. आजतक को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक देश के अलग-अलग हिस्सों से अर्धसैनिक बलों के डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए हालात से निपटने के लिए लाए जा रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 20 डॉक्टर और 50 पैरामेडिकल स्टाफ दिल्ली लाए जा रहे हैं.जानकारी के मुताबिक इंडिया तिब्बत बॉर्डर पुलिस (आईटीबीपी) के 15 डॉक्टर और 60 पैरामेडिकल स्टाफ, सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के 20 डॉक्टर और 60 पैरामेडिकल स्टाफ, सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) के 10 डॉक्टर और 55 पैरामेडिकल स्टाफ, असम राइफल्स के 10 डॉक्टर और 25 पैरामेडिकल स्टाफ को एयरलिफ्ट करके दिल्ली में कोरोना से लड़ने के लिए लाया जा रहा है.गृह मंत्रालय के सूत्रों से मिली जानकारी मुताबिक कोरोना के चलते दिल्ली में कंटेनमेंट जोन भी बढ़ रहे हैं. इसलिए 40 कंपनी यानी करीब 4000 जवान अर्धसैनिक बलों के और दिल्ली लाए जा रहे हैं. बता दें कि दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 3797 केस आए हैं और 99 लोगों की मौत हो चुकी है. मौतों का कुल आंकड़ा 7713 हो गया है. राजधानी में संक्रमितों की कुल संख्या 4,89,202 पहुंच गई है. हालांकि पिछले 24 घंटे में 3560 मरीज ठीक भी हुए हैं.