सूरत. शराब के अड्डे पर पति को ढूंढने गई एक महिला ने खुद के बलात्कार की जो कहानी हेल्पलाइन नंबर बताई थी वो पुलिस की जांच में झूठी निकली है। पुलिस ने जब महिला से पूछताछ की तो पता चला कि उसने ऐसा इसलिए किया था, क्योंकि वो अपने पति को शराब की लत से निजात दिलाना चाहती थी। उल्लेखनीय है कि दो दिन पहले लापता पति को ढूंढ़ने के लिए पत्नी पटेलवाड़ी शराब के अड्डे पर गई थी। पत्नी ने पांच लोगों के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म करने की कहानी बताई थी।
 

लगाया सामूहिक दुष्कर्म का आरोप
अभयम 181 महिला हेल्पलाइन पर एक राहगीर का 21 फरवरी को सुबह 9:49 बजे कॉल आया था। जिससे हम स्टाफ के साथ लाल दरवाजा पटेलवाड़ी के पास सुबह 10:05 बजे पहुंचे। जहां लोगों की भीड़ लगी थी। एक महिला रो रही थी। महिला की करीब 25 मिनट काउंसिल की। महिला ने बताया कि उसका पति दो दिन से लापता है। जिसे ढूंढ़ने के लिए लाल दरवाजा पटेलवाड़ी शराब के अड्डे पर गई थी। महिला 20 फरवरी को सुबह ढूंढ़ने गई तो उससे कहा गया कि उसका पति शाम को आएगा। इसलिए वह शाम को शराब के अड्डे पर गई। जहां एक शख्स ने मदद करने की बात की थी। मदद के बहाने वह रूम में ले गया, जहां उसके 4 साथियों सहित पांच लोगों ने दुष्कर्म किया। 
 

पूरी रात कमरे में बंद रखा
महिला ने बताया कि उसे पूरी रात कमरे में बंद रखा और सुबह आरोपियों के चंगुल से छूटकर बाहर निकली तो एक राहगीर ने उसकी मदद की। राहगीर ने 181 महिला हेल्पलाइन पर काल किया था। हम महिला को महिधरपुरा पुलिस स्टेशन ले गए थे। जहां उसने पुलिस को पांच लोगों ने दुष्कर्म किया होने की बात बताई। बाद में पुलिस महिला को पटेलवाड़ी ले गई थी।
 

झूठी कहानी गढ़ी
हमारी टीम ने महिला को पुलिस स्टेशन लाकर पूछताछ की, जिसमें पता चला कि महिला का पति शराबी है। वह शराब पीने के लिए अड्डे पर न जाए, इसके लिए उसने दुष्कर्म की झूठी कहानी बनाई। - पीए आचार्य, पीआई महिधरपुरा पुलिस स्टेशन