टोरंटो । कनाडा के उत्तरी क्षेत्र में इकालुइट शहर के पानी की सप्लाई में ईंधन की भारी मात्रा मिल रही है।यह काफी खतरनाक लेवल पर पहुंच चुकी है।लैब टेस्टिंग के चौंकाने वाले परिणामों ने इसका खुलासा किया है।इसके बाद शहर में आपातकाल की घोषणा भी कर दी।लोगों को प्रशासन की तरफ से अलग से पानी मुहैया कराया जा रहा है, जिसमें लोग लाइनों में लग कर अपनी जरूरत का पानी भर रहे हैं।
शहर के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी एमी एल्गर्स्मा ने बताया, शहर के पानी के टैंकों में से एक की टेस्टिंग में कई तरह के फ्यूल कम्पोनेंट की उच्चतम मात्रा मिले। यह संभवतः डीजल या मिट्टी का तेल था। कनाडा के सबसे उत्तरी क्षेत्र नुनावुट की राजधानी इकालुइट के रहवासियों ने हफ्ते के आखिर में पानी में ईंधन की गंध की जानकारी दी थी।हालांकि ईंधन कहां से आ रहा है इसके स्रोत का पता नहीं चल सका है।लोगों को पीने और खाना पकाने के लिए शहर के पानी का उपयोग बंद करने के लिए कहा गया।अथॉरिटी ने बताया कि उबालने के बाद भी पानी सुरक्षित नहीं है।
अधिकारियों को संदेह है कि पानी में यह ईंधन मिट्टी या भूजल की गंदगी टैंक में प्रवेश की हो सकती है। आगे की जांच करने के लिए टैंक से पानी खाली कर रहे हैं।इस बीच, टैंक के चारों ओर पानी भेजा जाएगा।अधिकारी ने कहा कि इकालुइट के लगभग सात हजार निवासियों को सिटी अथॉरिटी से आदेश मिलेगा, कि उन्हें कब अपने पाइप फ्लश करने चाहिए।अभी हमारे पास जो सबसे अच्छा सबूत है, वह बताता है कि दीर्घकालिक स्वास्थ्य प्रभावों (पानी पीने वालों के लिए) का जोखिम इस समय चिंता का विषय नहीं है।उन्होंने कहा कि कार्सिनोजेनिक रसायनों को सबूत नहीं मिले हैं, जिसे लेकर अधिकारी चिंता में थे।लेकिन बेंजीन और टोल्यून दोनों ईंधन में पाए जा सकते हैं।कनाडा के पास दुनिया के ताजे पानी का 20 प्रतिशत हिस्सा है।देश भर में 45 स्वदेशी समुदायों को पानी को उबाल कर इस्तेमाल करने की सलाह दी गई है।लिबरल प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के लिए पानी एक विवादास्पद मुद्दा है, वह पानी को उबालने की सलाह को बंद करने के वादे के साथ सत्ता में आए हैं।