उत्तर प्रदेश | के लखीमपुर खीरी में हुए विवाद और हिंसक प्रदर्शन की तपिश गाजियाबाद के यूपी गेट पर तीनों कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे प्रदर्शन तक पहुंच गई है। प्रदर्शनकारी यहां पर सिर्फ लखीमपुर खीरी के विवादों की ही चर्चा कर रहे हैं। वहीं, पुलिस प्रशासन ने सुरक्षा-व्यवस्था कड़ी कर दी है। सुबह से यहां के बंद सभी रास्ते खोल दिए गए हैं। उधर, चिल्ला बार्डर पर भी रास्ता खोल दिया गया है।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि यूपी गेट के अलावा पूरे शहर में कड़ी सुरक्षा-व्यवस्था है। क्षेत्र को सात और 12 सेक्टर में बांटा गया है। स्थानीय पुलिस के अलावा अर्धसैनिक बल और पीएसी तैनात है। सीसीटीवी कैमरे से भी नजर रखी जा रही है। सुरक्षा के लिहाज से दिल्ली की सभी सीमाओं पर पुलिस बल तैनात है। रास्तों में भी जगह-जगह पुलिस बल तैनात है। उन्होंने बताया कि अब तक स्थिति पूरी तरह से शांत है।

खुफिया विभाग सतर्क

यूपी गेट प्रदर्शन स्थल पर खुफिया विभाग पूरी तरह से सतर्क है। खुफिया विभाग की टीम यहां की छोटी सी छोटी गतिविधियों पर नजर रखे है। उसकी पुलिस प्रशासन के अधिकारियों से साझा कर रहे हैं। अब तक किसी गड़बड़ी का इनपुट नहीं मिला है।

गुरनाम सिंह चढ़ूनी के आने सूचना

पुलिस-प्रशासन को सूचना मिली है कि भारतीय किसान यूनियन के हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी का गाजियाबाद होकर लखीमपुर जाने की योजना बनाए हैं। इसको लेकर पुलिस प्रशासनिक अधिकारी सतर्क हो गए हैं। सभी सीमाओं पर पुलिस बल तैनात है। उन्हें गाजियाबाद होकर लखीमपुर खीरी नहीं जाने देने की योजना है।

सीमाओं वाहनों का दबाव

28 नवंबर से यूपी गेट पर तीनों कृषि कानूनों को लेकर धरना चल रहा है। यूपी गेट से दिल्ली आवाजाही नहीं हो रही है। इससे वाहनों को अन्य सीमाओं से गुजरना पड़ रहा है। सोमवार को महाराजपुर और ज्ञानी बार्डर पर वाहनों का दबाव होने से जाम की स्थिति बनी हुई है। पुलिस अधीक्षक नगर द्वितीय गाजियाबाद ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया कि क्षेत्र में कड़ी सुरक्षा-व्यवस्था है।