सर्दी में खाने की वैरायटी जितनी बढ़ जाती है, उतनी ही सेहत को ध्यान में रखकर डिश बनाई जाती है। सर्दी में अक्सर ऐसे व्यंजन बनते हैं जो आपके शरीर को गर्म रखते हैं। इसके अलावा भरपूर मात्रा में प्रोटीन देते हैं। रूटीन खाने में आप सब्जी दाल आदि में बदलाव करके स्वाद में परिवर्तन ला सकती हैं लेकिन रोटी के साथ ऐसा कम ही होता है। अधिकतर लोग गेहूं के आटे की ही रोटी खाते हैं। ऐसे में आप गेहूं की रोटी की जगह सर्दियों में कभी कभी बाजरे की रोटी बना कर खा सकते हैं। बाजरे की रोटी स्वादिष्ट होती है। साथ ही इसमें कई गुण भी होते हैं। बाजरे में प्रोटीन, फाइबर, मैग्नीशियम, फास्फोरस और आयरन जैसे पोषक तत्व होते हैं। बाजरा पाचन क्रिया को सही रखता है। कब्ज से छुटकारा दिलाता है। डायबिटीज के मरीजों के लिए तो बाजरा रामबाण है, जो मधुमेह को कंट्रोल करने में मदद करता है। तो इन सर्दियों में यहां बताई जा रही रेसिपी से बाजरे की रोटी बनाइए।

बाजरे की रोटी बनाने के लिए सामग्री

बाजरे का आटा, गूंथने के लिए गर्म पानी और सर्व करने के लिए घी।

बाजरे की रोटी बनाने का तरीका

स्टेप 1- एक गहरे बर्तन में एक कप बाजरे की आटा लें। उसमें थोड़ा थोड़ा गर्म पानी मिलाते हुए आटा गूंथ लें।

स्टेप 2- बाजरे का आटा गूंथना, गेहूं के आटे से थोड़ा मुश्किल हो सकता है, इसलिए कम आटा लें ताकि इसे सही से गूंथ सकें।

स्टेप 3- आटा गूंथने के बाद छोटी छोटी लोई बना लें और हाथ से दबाएं।

स्टेप 4- बाजरे के आटे को बेलन से साइज देना मुश्किल होता है, इसलिए हथेलियों की मदद से ही रोटी बना लें। ये प्रक्रिया करते समय ध्यान दें कि रोटियां टूटे नहीं।

स्टेप 5- बढ़ाने के लिए आप परथन या पानी का इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन कम मात्रा में।

स्टेप 6- जब रोटी को आकार मिल जाए तो गैस पर तवा चढ़ाकर रोटी सेंकने की तैयारी करें।

स्टेप 7-मध्यम आंच पर रोटी को दोनों तरह से सेंक लें। जब वह पक जाए को घी लगाकर सर्व करें।

स्टेप 8- ध्यान रखें कि बाजरे की रोटी सूखी और हल्की कड़ी होती हैं, इसलिए रोटी में हमेशा घी या बटर जरूर लगाएं।

आपकी बाजरे की रोटी तैयार है। इसे दाल, भरवा करेला, मक्खन और गुड़ आदि के साथ खाएं।