मुम्बई । कोरोना वायरस के कारण हुए लॉकडाउन से इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 13वें संस्करण को लेकर संशय बना हुआ है। वहीं भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) और आईपीएल फ्रैंचाइजियों को अभी भी इसके आयोजन की उम्मीदें हैं हालांकि आईपीएल फ्रैंचाइजियों ने फैसला किया है कि इस बारे में अब अगली बैठक 14 अप्रैल के बाद ही करेंगे। इसका कारण यह है कि लॉकडाउन 14 अप्रैल को समाप्त हो रहा है। इसी को देखते हुए बीसीसीआई अब भी क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए), इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) और दक्षिण अफ्रीकी बोर्ड (सीएसए) के संपर्क में है। बीसीसीआई के एक अधिकारी ने कहा कि इन सभी विदेशी बोर्डों को मौजूदा हालातों के साथ ही सरकार के निर्देशों की भी जानकारी दी जा रही है। इस दौरान विभिन्न विकल्पों पर भी विचार हुआ है जिसमें बंद दरवाजों के बीच टूर्नामेंट का आयोजन भी शामिल है। हर कोई चाहता है कि विदेशी खिलाड़ी आईपीएल का हिस्सा हों और यह टूर्नामेंट के प्रमुख आकर्षण में से एक है। इसलिए हम यहां की स्थिति और स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी किए गए निर्देशों के साथ-साथ कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में सरकार के आदेशों से सभी देशों के बोर्ड को ताजा बदलावों की जानकारी दे रहे हैं।' इस अधिकारी ने कहा, 'अभी अंतरराष्ट्रीय सीमा में भी लॉकडाउन हैं। यह भी एक पहलू है, जिसे ध्यान में रखा जाना चाहिए क्योंकि जब भी आईपीएल होता है तो उस दिन के अंत तक विदेशी खिलाड़ियों को आने की जरूरत होती है।' इसके साथ ही बीसीसीआई अब अक्टूबर-नवंबर के विंडो में भी आईपीएल आयोजन का विचार कर रहा है, पर यह तभी संभव है जब आईसीसी इस साल के अंत में होने वाले टी20 विश्व कप को स्थगित करे। टी20 विश्व कप का आयोजन भी अक्टूबर-नवंबर में ही होना है।