पटना। सीएम कैंडिडेट और प्लुरल्स पार्टी की प्रमुख पुष्पम प्रिया चौधरी को पटना पुलिस ने इनकम टैक्स चौराहे पर उस समय हिरासत में लिया, जब वह अपने समर्थकों के साथ राज्यपाल से मिलने जा रही थीं। पटना पुलिस का कहना है कि उन्‍हें प्रतिबंधित इलाके में जाने की अनुमति नहीं थी, उसके बावजूद वह बिना किसी अधिकारी को बताए और नियमों के विरुद्ध जा रही थीं। इसी दौरान कोतवाली एसएचओ के साथ पुष्पम प्रिया चौधरी की जमकर नोकझोंक भी हुई।
  मीडिया रिपर्ट्स के मुताबिक पुष्पम प्रिया चौधरी की पार्टी के वैशाली से उम्मीदवार की जमकर पिटाई हुई है। आरोप है कि पुलिस-प्रशासन मामले में कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है। इन्हीं बातों को लेकर पुष्पम अपनी पार्टी के कुछ नेताओं के साथ राज्यपाल से मिल कर अनुरोध करना चाह रही थीं कि बिहार में राष्ट्रपति शासन लगा कर चुनाव कराया जाए। पटना के डाकबंगला चौराहे पर मीडिया से बातचीत करते हुए पुष्पम प्रिया ने आरोप लगाया कि एक साजिश के तहत बिहार चुनाव में उनके प्रत्याशियों का निर्वाचन रद्द किया जा रहा है। प्रिया ने कहा कि कभी किसी बड़ी पार्टी के प्रत्‍याशी का नामांकन खारिज नहीं हुआ है। पुष्पम ने पटना में कहा कि महामहिम से केवल यह कहना है कि राष्ट्रपति शासन लगाने में क्या दिक्कत है। बिहार में अधिकारियों का इस्तेमाल किया जा रहा है। पुष्पम प्रिया ने दावा किया कि जब तक राज्यपाल से मिलने नहीं दिया जाएगा वह कहीं नहीं जाएंगी।