बिलासपुर । मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए बिलासपुर वन मंडल के अंतर्गत सीपत बलौदा मार्ग पर ग्राम लुतरा में 1 करोड़ 40 लाख की लागत से स्थापित पर्यावरण वन का वर्चुअल लोकार्पण किया। इस अवसर पर उन्होंने लुतरा सहित छत्तीसगढ़ के लोगों को शुभकामनाएं दी।
कार्यक्रम में वनमंत्री मोहम्मद अकबर भी वर्चुअली शामिल हुए। ग्राम लुतरा में कार्यक्रम के दौरान मौजूद वरिष्ठ जनप्रतिनिधि अटल श्रीवास्तव ने कहा कि पर्यावरण वन की स्थापना हजरत सैय्यद इंसान अली बाबा की समाधि स्थल पर किया गया है। यहां पर न केवल छत्तीसगढ़ के लोग आते हैं अपितु दूसरे राज्यों से भी लोग दर्शन के लिए आते हैं। इसलिए यह पर्यावरण वन पर्यटन स्थल के रूप में भी प्रसिद्ध होगा। छत्तीसगढ़ राज्य हज कमेटी के अध्यक्ष मोहम्मद असलम ने कहा कि वन विभाग द्वारा पर्यावरण वन स्थापित कर सराहनीय कार्य किया गया है।
पर्यावरण वन के संबंध में मुख्य वन संरक्षक अनिल सोनी ने बताया कि पर्यटन तथा जैव विविधता के संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए यहां पर्यावरण पार्क बनाया गया है। इसका निर्माण पर्यावरण वानिकी योजना के तहत किया गया है। इस पार्क में 10 हजार वर्गमीटर क्षेत्र में लॉन का निर्माण किया गया है।
पार्क में लैंड स्कैपिंग एवं पाथवे का निर्माण किया गया है। पाथवे के किनारे नारियल, सुपारी, पाम, फाक्सटेल पाम और वृहद स्तर पर गुलाब एवं मोंगरा आदि सुगंधित फूलदार प्रजातियों के पौधे लगाकर सौंदर्यीकरण किया गया है। पार्क में फौव्वारा के निर्माण सहित हाई मास्क लाईट एवं स्वागत द्वार का निर्माण भी किया जा रहा है। माइक्रो फ्लोरा एवं माइक्रो फौना के संरक्षण एवं संवद्र्धन के लिए फॉउनटेन का निर्माण कराया गया है। इस पार्क में विभिन्न प्रकार की तितलियां एवं सूक्ष्म जीवों की उपस्थिति आकर्षण का केन्द्र है। इस अवसर पर उपस्थित अतिथियों द्वारा वृक्षारोपण भी किया गया।
कार्यक्रम में वरिष्ठ जन प्रतिनिधि अटल श्रीवास्तव, छ.ग. राज्य हज कमेटी के अध्यक्ष मोहम्मद असलम, जिला पंचायत सदस्य राहुल सोनवानी, जनपद सदस्य श्रीमती अंजली लक्ष्मी साहू, सरपंच श्रीमती सुखवारा गंधर्व, वन विभाग के सीसीएफ अनिल सोनी एवं बिलासपुर वन मण्डल के वन मण्डलाधिकारी कुमार निशांत, लुतरा शरीफ दरगाह कमेटी के अध्यक्ष सैय्यद अकबर बख्शी, शिव सिंह ठाकुर, शमीम अख्तर, कृष्ण कुमार यादव, दरगाह कमेटी के अध्यक्ष शेख निजामुद्दीन, सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण जन उपस्थित थे।