लखनऊ । मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि राज्य सरकार बाढ़ एवं अतिवृष्टि से प्रभावित सभी किसानों को पूरी मदद देने लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने समस्त मण्डलायुक्तों और जिलाधिकारियों को निर्देशित किया कि पिछले दिनों अतिवृष्टि से जिन जनपदों में कृषि फसलों की क्षति हुई है, उसका तत्काल सर्वे कराकर प्रभावित किसानों का विवरण कृषि अनुदान मॉड्यूल में ऑनलाइन फीड किया जाए, ताकि शासन द्वारा प्रभावित किसानों के लिए मुआवजा राशि उपलब्ध कराई जा सके।
मुख्यमंत्री शुक्रवार को यहां आहूत एक उच्च स्तरीय बैठक में कृषि निवेश अनुदान के अन्तर्गत राहत सहायता प्रदान किए जाने की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वित्तीय वर्ष 2021-22 में बाढ़ से क्षतिग्रस्त हुई फसलों की मुआवजा राशि का वितरण प्रभावित किसानों को शीघ्र किया जाए। बैठक में मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि 35 जनपदों- देवरिया, महराजगंज, सिद्धार्थनगर, गोरखपुर, मीरजापुर, संतकबीर नगर, सीतापुर, कुशीनगर, बलिया, बहराइच, मऊ, वाराणसी, झांसी, गाजीपुर, बाराबंकी, जालौन, लखीमपुर खीरी, ललितपुर, चन्दौली, कौशाम्बी, अम्बेडकरनगर, बिजनौर, बस्ती, गोण्डा, चित्रकूट, बलरामपुर, बांदा, औरैया, फर्रुखाबाद, पीलीभीत, कानपुर देहात, भदोही, सुल्तानपुर, आगरा तथा श्रावस्ती के 2,35,122 प्रभावित किसानों के लिए 77 करोड़ 88 लाख 96 हजार 748 रुपए की धनराशि राज्य आपदा मोचक निधि से जारी की गई है।