अहमदाबाद | गुजरात में नगर निगमों की भांति पालिका-पंचायत चुनावों में राज्य की जनता ने झोली भरभर को वोट भाजपा को देकर वर्ष 2010 के नतीजों का पुनरावर्तन किया है| मौजूदा चुनावों में भाजपा को जबर्दस्त सफलता तो कांग्रेस भारी नुकसान हुआ है| करीब करीब भाजपा ने सभी मोर्चों पर कांग्रेस का सफाया कर दिया है| कांग्रेस के गढ़ माने जाते इलाकों में भाजपा ने अपना भगवा लहरा दिया है| आजादी के बाद से कांग्रेस जहां हारी नहीं थी वहां आज पराजय का मुंह देखना पड़ा है| भावनगर जिले की घोघा नगर पालिका आजादी के बाद से कांग्रेस के कब्जे में थी| लेकिन मौजूदा चुनाव में घोघा नगर पालिका भी कांग्रेस के हाथ से निकल गई और भाजपा ने शानदार जीत दर्ज की| पालिका-पंचायत चुनावों में कई चौंकाने वाले नतीजे सामने आए हैं| मोडासा नगर पालिका में कांग्रेस का विपक्ष का पद एआईएमआईएम ने छीन लिया है| मोडासा नगर पालिक में एआईएमआईएम ने 9 सीटें जीती हैं| बता दें कि सूरत नगर निगम में आप विपक्ष बनकर उभरी थी| 120 सीटों सूरत नगर निगम में भाजपा ने 93 और आप ने 27 सीटों पर जीत दर्ज की थी| जबकि कांग्रेस को एक भी सीट नसीब नहीं हुई| पालिका-पंचायत के चुनाव में भी पाटीदार के गढ़ माने जाते उत्तरी गुजरात और सौराष्ट्र में आप ने कई सीटें जीती हैं|