पटना. कोरोना वायरस (Corona Virus) को लेकर पूरा बिहार हाई अलर्ट पर है और 31 मार्च तक लॉकडाउन (Bihar Lock Down) है, ऐसे में अब हर गतिविधियों पर सरकार की नजर है. अपर मुख्य सचिव आमिर सुबहानी ने सभी जिलाधिकारियों को निर्देश जारी करते हुए कहा है कि बिहार से बाहर से आनेवाले जो भी लोग गांव में प्रवेश कर रहे हैं उन पर कड़ी निगरानी रखी जाए और उन्हें गांव मे ही अस्थायी आवासीय सुविधा उपलब्ध कराई जाए.

स्कूल, सामुदायिक भवन और पंचायत भवन में होगा ठहराव

इसको लेकर सभी अधिकारियों को ये निर्देश दिया गया है कि गांव के ही सरकारी स्कूल, पंचायत भवन और सामुदायिक भवनों में ऐसे परदेसी को ठहरने की समुचित व्यवस्था होगी ताकि घरवालों के अंदर डर खत्म हो सकेगा. सरकार को शक है कि एयरपोर्ट, बस स्टॉप या रेलवे स्टेशनों पर हो रही स्क्रीनिंग में कुछ ऐसे भी लोग हैं जो चुपके से बगैर स्क्रीनिंग कराए निकल गए होंगे जिसके बाद ग्रामीणों से सूचना प्राप्त हो रही है कि बाहर से लोग आए हैं और घरों में छिपे हुए हैं.

बिहार में लगातार बढ़ रही है संदिग्धों की संख्या
मालूम हो कि राज्य में कोरोना वायरस के मरीजों के आंकड़े में लगातार वृद्धि हो रही है. सरकारी रिपोर्ट के मुताबिक अब तक 3 लोगों में वायरस की पुष्टि हुई है जबकि लगभग 140 लोगों का अब तक सैम्पल लिया जा चुका है जिसमें 45 सैम्पल का रिजल्ट अभी नहीं आया है.

जागरूकता का निर्देश

बिहार के शहरी इलाकों के लिए लॉक डाउन का निर्देश तो दे दिया गया है लेकिन ग्रामीणों में भी दहशत नहीं हो इसको लेकर भी ग्राम पंचायत स्तर पर मुखिया से लेकर सरपंच और पंचायत सचिवों को लोगों को जागरूक करने का भी निर्देश दिया गया है साथ ही किसी प्रकार की सूचना प्राप्त होते ही सरकार को उपलब्ध कराने का भी निर्देश दिया गया है.