सूरत समेत दक्षिण गुजरात के 4000 से अधिक छात्रों ने ऑनलाइन परीक्षा देने के लिए भरा है आवेदन

गुजरात टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी में ऑनलाइन परीक्षा के लिए छात्रों से जमा कराया गया डेटा लीक हाे गया है। इससे छात्राें की परेशानी बढ़ गई है। सूरत समेत दक्षिण गुजरात के हजारों छात्र जीटीयू से जुड़े कॉलेजों में पढ़ते हैं। छात्रों ने ऑनलाइन परीक्षा देने के लिए आवेदन किया था। बताया जाता है कि 1200 से अधिक छात्रों का डेटा लीक हो गया है, जबकि जीटीयू का कहना है कि केवल फोटो ही चोरी हुए हैं। यूनिवर्सिटी प्रबंधन आगे की कार्रवाई कर रहा है, पर छात्रों की चिंता बढ़ गई है। अन्य विश्वविद्यालय भी ऑनलाइन परीक्षा लेने से कतराने लगे हैं। जीटीयू ने कहा आरोपी जल्द पकड़े जाएंगे।

वेबसाइट के बिना चोरी मुश्किल

जीटीयू से जुड़े कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्रों ने ऑनलाइन परीक्षा देने के लिए आवेदन पत्र जमा किए थे। इसी दौरान हैकर से छात्रों की फोटो एवं अन्य दस्तावेज हैक कर लिया। जीटीयू का कहना है कि ऐसा तभी हो सकता है जब किसी छात्र के लॉग इन से यूनिवर्सिटी की वेबसाइट को खोला जाए। वेबसाइट को खोलने से पहले डेटा चुराना मुश्किल है।

आधार, पेन कार्ड जमा किए थे

जीटीयू ने पहली बार ऑनलाइन परीक्षा लेने की कोशिश की थी। छात्रों से दो बार आवेदन मंगाने के लिए डेटा लीक होने की घटना सामने आई है। छात्रों ने आवेदन के साथ आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पेन कार्ड एवं अन्य दस्तावेज जमा करवाए थे। सूरत समेत दक्षिण गुजरात के 4000 से अधिक छात्रों ने दस्तावेज जमा करवाए थे।

छात्रों की केवल फोटो ही लीक हुई है। आवेदन के साथ जमा अन्य दस्तावेज पूरी तरह से सुरक्षित हैं। छात्रों को चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है। डेटा चुराने वाले के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। दो-तीन दिनों में आरोपी को पकड़ लिया जाएगा।
नवीन सेठ, कुलपति, गुजरात टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी

नर्मद यूनिवर्सिटी भी ऑनलाइन परीक्षा लेने की तैयारी में

यूजीसी ने गाइडलाइन जारी करके सभी विश्वविद्यालयों को अपनी सुविधा के अनुसार ऑनलाइन या ऑफलाइन परीक्षा लेने की छूट दी है। परीक्षा के लिए अलग तारीख और समय निर्धारित किए गए हैं। नर्मद यूनिवर्सिटी भी ऑनलाइन परीक्षा की तैयारी में लगी है, पर सबसे बड़ी समस्या ये है कि जब टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में सेंध लग सकती है तो नर्मद यूनिवर्सिटी का डेटा कितना सुरक्षित रहेगा। डेटा चोरी को लेकर नर्मद यूनिवर्सिटी पूरी तरह से सतर्क हो गई है।