वर्ष 2019 अपने अंतिम पड़ाव की ओर है। 2019 के खत्म होने के आखिरी दिनों में सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है। यह ग्रहण 26 दिसंबर को होगा। ये सूर्य ग्रहण वलयाकार होगा जिसमें सूर्य अंगूठी की तरह दिखेगा। जहां साल के आखिरी दिन में सूर्य ग्रहण लगेगा इसके अलावा नए साल 2020 में 10 जनवरी को ही वर्ष का पहला ग्रहण भी लगेगा। यह ग्रहण चंद्र ग्रहण होगा। चंद्र ग्रहण 10 जनवरी की रात को 10 बजकर 37 मिनट से ग्रहण लगना शुरू हो जाएगा।

साल 2019 का आखिरी ग्रहण
26 दिसंबर को साल का आखिरी सूर्य ग्रहण लगेगा। इस ग्रहण का आरंभ भारतीय समयानुसार 9 बजकर 15 मिनट पर होगा, 12 बजकर 10 मिनट पर परमग्रास रहेगा तथा 3 बजकर 04 मिनट पर ये कंकड़ सूर्य ग्रहण समाप्त हो जाएगा।

ग्रहण कहां-कहां दिखेगा
साल का आखिरी सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई देगा। भारतीय पंचांग के अनुसार सूर्य ग्रहण हमेशा अमावस्या के दिन होता है। भारत के अलावा यह सूर्य ग्रहण दक्षिण पूर्व यूरोप, ऑस्ट्रेलिया के उत्तरी भागों, फिजी, हिंद महासागर, मध्य पूर्व एशिया, अफगानिस्तान, पाकिस्तान, मध्य दक्षिण चीन, वर्मा, फिलीपींस आदि देशों में दिखाई देगा।

सूर्य ग्रहण में सूतक काल
सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई देने के कारण सूतक का असर रहेगा। सूतक का समय ग्रहण के एक दिन पहले ही शुरू हो जाएगा। सूतक 25 दिसंबर की शाम 5:33 मिनट से शुरू होगा और अगले दिन सुबह 10:57 पर सूर्य ग्रहण की समाप्ति के बाद खत्म होगा।

सूतक का महत्व
ग्रहण में सूतक का विशेष महत्व होता है। हिंदू धर्म में सूतक लगने पर कई तरह के कार्यो को नहीं किया जा सकता। सूतक के समय को अशुभ समय माना गया है।

ग्रहण का प्रभाव
सूर्य ग्रहण पर 5 ग्रह राहु और केतु के प्रभाव में रहेंगे। सूर्य और चंद्रमा राहु-केतु के साथ युति में होगें जिसकी वजह से जातकों के जीवन में इसका व्यापक असर होगा।

साल 2020 के ग्रहण कब- कब

पहला चंद्र ग्रहण
10 जनवरी को लगेगा जो भारत में देखा जा सकेगा।

दूसरा चंद्र ग्रहण
साल 2020 का दूसरा चंद्र ग्रहण 5 जून को लगेगा। इस चंद्र ग्रहण की दृश्यता भारत में रहेगी।

तीसरा चंद्र ग्रहण
5 जुलाई 2020 को पड़ेगा।

चौथा चंद्र ग्रहण
30 नवंबर को साल का आखिरी चंद्र ग्रहण पडेगा। यह ग्रहण भारत में दिखाई देगा।

पहला सूर्य ग्रहण
21 जून को लगने वाला है। भारत में दिखाई देगा।

दूसरा सूर्य ग्रहण
14 दिसंबर 2020 को लगने वाला है।