कोरोना वायरस संक्रमण के खतरों को देखते हुए देश भर में लॉकडाउन है, ऐसे में कॉलेज छात्र असमंजस में है. एग्जाम और एडमिशन को लेकर 45000 डिग्री कॉलेजों ने मानव संसाधन विकास मंत्री से वेबिनार में सवाल किए. जानि‍ए उनके जवाब.

कब और कैसे होंगे कॉलेज के एंड टर्म एग्जाम, निशंक ने कॉलेजों को बताया

कोरोना वायरस संक्रमण के खतरों को देखते हुए देश भर में लॉकडाउन है, ऐसे में कॉलेज छात्र असमंजस में है. एग्जाम और एडमिशन को लेकर 45000 डिग्री कॉलेजों ने मानव संसाधन विकास मंत्री से वेबिनार में सवाल किए. जानि‍ए उनके जवाब.

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने आज वेबिनार के जरिए देश के उच्च शिक्षा जगत से जुड़े करीब को संबोधित किया. NAAC की ओर से ये वेबिनार आयोजित की गई थी.

इस वेबिनार में केंद्रीय मंत्री निशंक ने जेईई, नीट से लेकर कॉलेज एग्जाम्स, ऑनलाइन लर्निंग और शोध कार्यों तक पर चर्चा की. उन्होंने ये भी बताया कि कोरोना के कारण बिगड़े हालात में कॉलेजों की परीक्षाओं को लेकर यूजीसी की क्या योजना है.उन्होंने कहा कि कोविड-19 से जहां पूरी दुनिया थर्रा रही है, वहीं भारत जैसा विकासशील देश शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर काम कर रहा है. ये हमारे शिक्षा के योद्धाओं यानी शिक्षकों के कारण ही संभव है.

ऑनलाइन शिक्षा के बारे में उन्होंने कहा कि हमने चुनौतियों को अवसर के रूप में लिया है. हमने ऑनलाइन शिक्षा पर पूरा जोर दिया और इसे कई गुना बेहतर कर आगे बढ़ाया है. ई-पाठशाला, दीक्षा पोर्टल जैसे कई ई-विद्या प्लेटफॉर्म्स शुरू किए गए हैं. स्वयं तो दुनिया का सबसे बड़ा ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म बन गया है लेकिन जिन छात्रों के पास मोबाइल, लैपटॉप, इंटरनेट की सुविधा नहीं है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

उनके लिए हमने टीवी पर स्वयंप्रभा चैनल शुरू किया है जहां 24 घंटे अलग-अलग विषयों की पढ़ाई कराई जा रही है. इसके अलावा रेडियो (AIR) पर भी शैक्षणिक कार्यक्रमों का प्रसारण किया जा रहा है. सामान्य हालात की अपेक्षा इस समय ज्यादा मेहनत हो रही है. यूजीसी तय करेगी कि देश के किन 100 विश्वविद्यालयों में ऑनलाइन शिक्षा को बढ़ावा दिया जाएगा.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

कॉलेजों में रिक्त पदों को लेकर कही ये बात

केंद्र और राज्यों में कई पद रिक्त थे. सरकार उसे भरने की कोशिश में हैं. हजारों भर्तियां हुई भी हैं. 12 हजार से भी ज्यादा केंद्र में और राज्यों से 30 हजार के करीब रिक्त पदों पर भर्ती के लिए विज्ञापन जारी हुए हैं. जल्दी ही भर्ती प्रक्रिया पूरी की जाएगी. एनसीईआरटी की तरह ही यूजीसी में भी टास्क फोर्स का गठन किया गया है जो आगे के लिए रोडमैप तैयार करेगा. जुलाई में परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी अगर हालात सामान्य हुए.