सूरत | सूरत में गुजसीटोक कानून के तहत दक्षिण गुजरात में पहला केस दर्ज किया गया है| सूरत क्राइम ब्रांच ने 36 गंभीर मामलों को अंजाम देने वाले आसिफ टामेटा गैंग के अन्य तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया| इस गैंग के खिलाफ हत्या, लूट, फिरौती, आर्म्स एक्ट और एट्रोसिटी जैसे गंभीर मामले दर्ज हैं| इस गिरोह में कुल 14 लोग हैं, जिनका सरगना मुजफ्फरअली उर्फ आसिफ टामेटा जफरअली सैयद है| आसिफ टामेटा का गिरोह सूरत के सलाबतपुरा, डिंडोली, लिंबायत, उधना, उमरा, अडाजम, खटोदरा, पांडेसरा, सचिन, इच्छापोर समेत भरुच जिले के दहेज और उत्तर प्रदेश के लखनऊ में नेटवर्क तैयार गंभीर मामलों का अंजाम दे चुका है| आसिफ टामेटा गिरोह पकड़े गए शख्सों में अज्जु टामेटा, इमरान सिद्दीकी, शोएब सिटी, शाहरुख शाह, युसूफखान पठान, छोटा टाइगर, राजा जहांगीर शेख, सरफराज सीधा, अजय राजपूत, समीर सलीम शेख, मोयो बटको, लंगडो पठान और संदीप ओमप्रकाश गुप्ता शामिल हैं| आसिफ टामेटा, मोयो बटको, लंगडो पठान फिरौती के मामले में फिलहाल सूरत के लाजपोर जेल में बंद हैं| जबकि अज्जु टामेटा राजकोट की सेंट्रल जेल में है| युसूफखान पठान उत्तर प्रदेश के कमलेश तिवारी हत्या केस में लखनऊ की जेल में बंद है| सरफराज, अजय और संदिप को क्राइम ब्रांच ने सचिन से गिरफ्तार कर लिया है|