जूनागढञ | मुख्यमंत्री विजय रूपाणी से पेशकश और विरोध के बाद आखिरकार गिरनार रोप वे का किराया घटा दिया गया है| पहले किराए के अतिरिक्त 18 प्रतिशत जीएसटी लिया जाता था और जीएसटी को किराए में जोड़ दिया गया है| बता दें कि गिरनार रोप वे का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गत 24 अक्टूबर को ई लोकार्पण किया था| रोप वे शुरू होते ही पहले दिन पर्यटकों का भीड़ उमड़ पड़ी| लेकिन रोप वे कई पर्यटकों को निराश कर दिया| कई लोग तो रोप वे किराया सुनकर उल्टे पैर लौट गए| कई लोगों ने उषा ब्रेको कंपनी से रोप वे के किराए पर पुनर्विचार करने की मांग की| मुख्यमंत्री विजय रूपाणी से भी किराए को लेकर पेशकश की गई| जिसका असर हुआ और कंपनी ने नए किराए का ऐलान किया| नए किराए में जीएसटी अलग से नहीं लिया जाएगा| यानी टिकट के दर पर अलग से लिया जाने वाला 18 प्रतिशत जीएसटी अब टिकट के दर में शामिल कर लिया गया है| नए किराए के मुताबिक वयस्क व्यक्ति 700 रुपए किराया देकर रोप वे में दोनों ओर यात्रा कर सकेगा| जबकि बच्चों का टिकट रु. 350 होगा| रोप वे एक ओर यात्रा करनेवाले व्यक्ति को टिकट के लिए रु. 400 देना होगा| प्रत्येक टिकट पर 18 प्रतिशत जीएसटी अलग से लिया जाता था| पांच वर्ष तक के बच्चे का टिकट नहीं लगेगा| 5 से 10 वर्ष के बच्चों का आधा टिकट और 10 वर्ष से अधिक आयु पर पूरा टिकट लगेगा| दिव्यांग और उनके साथ आए व्यक्ति को टिकट में कन्सेशन मिलेगा, लेकिन इसके लिए आईडी कार्ड अनिवार्य होगा| टिकट जिस दिन खरीदा जाएगा, उसी दिन मान्य होगा और टिकट खरीदने के बाद रिफंड नहीं होगा| गौरतलब है उषा ब्रेको कंपनी ही पावागढ़ में रोप वे का संचालन करती है| पावागढ़ रोप वे की लंबाई 376 मीटर है और किराया रु. 141.60 है| गिरनार रोप वे की लंबाई तीन गुना यानी 2320 मीटर है, लेकिन उसका किराया रु. 700 है|