पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के व्यक्तिगत प्रयासों के बाद केंद्र सरकार ने बुधवार को खरीफ सीजन 2019-20 में धान खरीद के लिए नकद क्रेडिट सीमा (सीसीएल) की 26707.50 करोड़ रुपये की राशि जारी कर दी है। अधिकारिक प्रवक्ता ने बताया कि यह राशि आरबीआई द्वारा अक्तूबर, 2019 के अंत तक क्रेडिट सीमा के लिए जारी की गई है।
सीसीएल राशि समय पर रिलीज होने से पंजाब सरकार को धान किसानों को उनकी फसल का समय पर भुगतान करने में मदद मिलेगी। उल्लेखनीय है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किसानों को उनकी फसल के लिए समय पर भुगतान सुनिश्चित करने के उद्देश्य से केंद्र सरकार के साथ सीसीएल के जल्द भुगतान के प्रयास किए थे।
धान खरीद की गति पर संतोष व्यक्त करते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह ने खाद्य मंत्री को निर्देश दिया कि वे उपज का शीघ्र उठान सुनिश्चित करें और किसानों को निर्धारित समय सीमा के भीतर भुगतान जारी करें।

अब तक 3.26 लाख टन धान की हुई खरीद
बुधवार तक राज्य खरीद एजेंसियों द्वारा कुल 3,26,839 टन धान की खरीद की गई है, जिसमें पनग्रेन द्वारा 1,27,575 टन की खरीद की गई है। इसके अलावा मार्कफेड द्वारा 80025, पनसप द्वारा 48387 और पीएसडब्ल्यूसी द्वारा 38116 टन धान खरीदा जा चुका है। एफसीआई ने 5627 टन धान खरीद की है। कैप्टन ने राज्य भर की मंडियों में सुचारू और परेशानी मुक्त खरीद के लिए अपनी सरकार की प्रतिबद्धता दोहराई है।

गेहूं खरीद के लिए केंद्र ने दिए थे 19,240.91 करोड़
केंद्र सरकार ने इस साल रबी खरीद सीजन में गेहूं की खरीद के लिए पंजाब को 19,240.91 करोड़ रुपए के नकद सीमा कर्ज (सीसीएल) जारी किया था। तब राज्य में सरकारी एजेंसियों द्वारा 130 लाख टन गेहूं खरीदी गई थी। सीसीएल की राशि समय पर जारी होने से राज्य सरकार को गेहूं उत्पाद किसानों को समय पर भुगतान करने में आसानी हुई।